Weather Update: तेज आंधी के साथ बारिश का अलर्ट, अगले 48 घंटे में तूफान की आशंका!

कई इलाकों में बारिश की संभाव है.  (Demo Pic)
कई इलाकों में बारिश की संभाव है. (Demo Pic)

विभाग की मानें तो अण्डमान (Andaman and Nicobar Islands) में एक निम्नदाब का सेट बन चुका है. ये चक्रवात में बदल सकता है. इसका असर छत्तीसगढ़ के कई इलाकों में भी पड़ सकता है.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के मौसम लगातार बदलाव देखा जा रहा है. अब 17 और 18 मई को एक चक्रवात आने का आसार बना रहा है. मौसम विभाग (Weather Department) के मुताबिक च्रकवात (Cyclone) की वजह से राज्य के मौसम में परिवर्तन होगा. मौसम विभाग ने चक्रवात आने की संभावना व्यक्त किया है. विभाग की मानें तो अण्डमान (Andaman and Nicobar Islands) में एक निम्नदाब का सेट बन चुका है. ये चक्रवात में बदल सकता है. इसका असर छत्तीसगढ़ के कई इलाकों में भी पड़ सकता है.

इस साल मौसम में काफी परिवर्तन देखने को मिल रहा है. अंधड़, बारिश, आकाशीय बिजली आए दिन हो रही हैं. इससे जानमाल का नुकसान भी हो रहा है. अब प्रदेश में 17 और 18 मई को एक तूफान आने के आसार बन रहे हैं. मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण अण्डमान निकोबार में एक निम्नदाब का सेट बन चुका है. इसके और प्रबल होने के बाद चक्रवात में तब्दील होने की संभावना है. 48 घंटे के बाद उत्तर पूर्व दिशा में इसके मूवमेंट की संभावना है. इस वजब से छत्तीसगढ़ का मौसम भी प्रभावित हो सकता है.

पश्चिम बंगाल और ओडिशा में ज्यादा असर



मौसम विभाग के मुताबिक यह चक्रवात जब अपने प्रबल रूप में आएगी तब पश्चिम बंगाल और ओड़िशा में इसका ज्यादा प्रभाव पड़ने की संभावना है. फिलहाल इस तूफान का कोई नाम नहीं रखा गया है. बता दें कि चक्रवात का नामकरण 2004 से प्रारंभ हुआ. इसमें आठ देशों को आठ –आठ नाम सुझाना होता है. इसी के मुताबिक हर चक्रवात का नामकरण होता है. मौसम संगठन योजना अनुसार चक्रवात का नामकरण करती है. आठ समुद्रीय देशों भारत, मालद्वीप, म्यांमार, बंग्लादेश, श्रीलंका, पाकिस्तान, थाइलैण्ड और ओमान नाम सुझाती है. फिर पहले अक्षर के अनुसार इसका नामकरण तय होता है. फिलहाल जितने नाम सुझाए गए थे उनकी सूचि समाप्त हो गई है. ऐसे में चक्रवाती तूफान का नया नामकरण होगा.
क्या कहता है मौसम विभाग

मौसम वैज्ञानिक एचपी चंद्रा का कहना है कि दक्षिण अण्डमान में एक निम्नदाब का सेट बन चुका है. ऐसे में चक्रवात आने की संभावना है. चक्रवाती तुफान का नामकरण नहीं हुआ है. एक द्रोणिका मध्य महाराष्ट्र से दक्षिण अंदरुनी कर्नाटक तक 0.9 किलो मीटर की ऊंचाई पर बना हुआ है. इसके साथ ही बंगाल की खाड़ी से नमी युक्त हवा आ रही है. इसकी वजह से राज्य के कई हिस्सों में बारिश के साथ तेज हवा और आकाशीय बिजली गिरने की संभावना है.

ये भी पढ़ें: 

CGBSE Exam 2020: छत्तीसगढ़ में नहीं होंगे 10वीं और 12वीं के बचे पेपर, ऐसे दिए जाएंगे नंबर 

मां को काम पर छोड़ने घर से निकला, पर टूटकर गिरा हाईटेंशन तार नहीं देख पाया बच्चा, फिर...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज