रात 12 बजे सड़कों पर निकलकर महिलाओं ने दिया संदेश

Vinod Kushwaha | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: August 13, 2017, 8:17 AM IST
रात 12 बजे सड़कों पर निकलकर महिलाओं ने दिया संदेश
छत्तीसगढ़ की बेटियों ने दिया संदेश.
Vinod Kushwaha | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: August 13, 2017, 8:17 AM IST
चंडीगढ़ में आईएएस की बेटी से छेड़छाड़ मामले के बाद महिलाओं को रात में घरों से नहीं निकलने देने की सलाह देने वालों को छत्तीसगढ़ की बेटियों ने करारा जवाब दिया है. छत्तीसगढ़ के अलग-अलग जिलों में देर रात महिलाएं सड़क पर निकलकर मेरी रात मेरी सड़क का संदेश दीं.

आदिवासी इलाके बस्तर के संभागीय मुख्यालय जगदलपुर की सड़क पर रात को महिलाओं ने दीप जलाए. दीप जलाकर महिलाओं ने संदेश दिया कि एक दीपक अधंकार को रौशनी दे सकता है तो वक्त आने पर सबकुछ जला भी सकता है. आदिवासी लड़कियां और महिलाओं ने देश में नारी की अस्मिता और उसके अधिकारों पर न्याय दिलाने के लिए अपना विचार व्यक्त की.

बस्तर में अक्सर महिलाएं अत्याचार और शोषण का शिकार हो रही हैं इसलिए इन महिलाओं ने अपनी आजादी के साथ जीने का संदेश दिया. इसके साथ ही खुद की सुरक्षा के लिए कई कार्यक्रम का आयोजन किया.

मेरी रात मेरी सड़क के इस मुहिम में छोटी-छोटी बच्चियां, लड़कियां और महिलाएं शामिल हुई. इस मुहिम के जरिए लोगों को संदेश दिया गया कि जिस तरह लड़के सड़कों पर देर रात निकल सकते है उसी तरह से लड़कियों को भी देर रात सड़कों पर निकलने का अधिकार है.

इस मुहिम में रास परव के कलाकारों ने जगदलपुर की सड़कों पर झूमकर नाचकर और पैदल मार्च निकालकर ये संदेश दिया कि महिलाऐं भी इस दुनिया में बराबरी से जीना चाहती हैं.
First published: August 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर