होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /CM भूपेश बघेल लखनऊ में धरना देते हैं, बनारस जाते हैं लेकिन कबीरधाम नहीं गए: अमित जोगी

CM भूपेश बघेल लखनऊ में धरना देते हैं, बनारस जाते हैं लेकिन कबीरधाम नहीं गए: अमित जोगी

अमित जोगी ने तंज कसते हुए कहा कि सीएम बघेल को याद रखना चाहिए कि वह यूपी के मुख्यमंत्री नहीं हैं.

अमित जोगी ने तंज कसते हुए कहा कि सीएम बघेल को याद रखना चाहिए कि वह यूपी के मुख्यमंत्री नहीं हैं.

Chhattisgarh Politics: मीडिया से चर्चा करते हुए जोगी ने कवर्धा मामले पर कहा कि इतनी बड़ी घटना घटती है, पूरा शहर जल रहा ...अधिक पढ़ें

राजनंदगांव. छत्तीसगढ़ के तीसरे राजनैतिक दल जेसीसीजे के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी गुरुवार को राजनांदगांव जिले के धर्म नगरी डोंगरगढ़ पहुंचे. जोगी आज पैदल ही माता के दर्शन करने कार्यकर्ताओं के साथ निकल पड़े और रास्ते में खुद ही भंडारा बांटते भी दिखाई दिए. मीडिया से चर्चा करते हुए जोगी ने कवर्धा मामले पर कहा कि इतनी बड़ी घटना घटती है, पूरा शहर जल रहा होता है और प्रदेश के मुख्यमंत्री लखनऊ एयर पोर्ट में धरना देते हैं तो कभी बनारस जाते हैं, लखीमपुर में किसानों से मिलने जाते हैं, पर इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी आज तक मुख्यमंत्री कबीरधाम नहीं गए. मुख्यमंत्री की बात छोड़िए, स्थानीय विधायक भी वहां नहीं गए.

जोगी ने हमला तेज करते हुए कहा, ‘बस्तर और सिलीगेर के किसानों से आज तक मुआवजा नहीं मिला. मुख्यमंत्री बघेल आज तक पीड़ित किसानों से मिलने नहीं पहुंचे हैं.”

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को याद रखना चाहिए कि वह उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री नहींं बल्कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री है. जोगी ने मुख्यमंत्री बघेल द्वारा आरएसएस पर दिए गए बयान पर तंज करते हुए कहा कि सीएम अभी कह रहे थे कि आरएसएस नागपुर से संचालित होता है परंतु वह भूल गए कि कुछ दिन पूर्व उन्होंने ही कहा था कि दिल्ली हाईकमान से फोन आ जाए तो मैं तत्काल इस्तीफा दे दूंगा, तो वे कहां से संचालित होते हैं.

जोगी ने कहा, ‘अब जनता देख चुकी है, दूसरे प्रदेशों को देखती है. महाराष्ट्र, झारखंड को देखती है. वहां की क्षेत्रीय दलों की सरकारों से अब जनता सरकार के कामकाज की तुलना करती है.’ आगे उन्होंने कहा कि जहां-जहां क्षेत्रीय दलों की सरकार है, वहां लॉकडाउन में अच्छा काम किया और घर-घर राशन पहुंचाया गया लेकिन भूपेश सरकार ने लॉकडाउन में घर घर शराब पहुचाई.

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें