हॉकी की नर्सरी में दिख रहा बास्केटबॉल का क्रेज, खिलाड़ी जमकर बहा रहे पसीना

राजनांदगांव में कुछ ऐसे भी खिलाडी हैं, जो नक्सल प्रभावित बस्तर से लेकर सरगुजा संभाग से खेलो इंडिया के तहत पहुंचे हैं.

rakesh yadav | News18 Chhattisgarh
Updated: July 17, 2019, 2:54 PM IST
हॉकी की नर्सरी में दिख रहा बास्केटबॉल का क्रेज, खिलाड़ी जमकर बहा रहे पसीना
छत्तीसगढ़ में हॉकी की नर्सरी कहे जाने वाले राजनांदगांव में इन दिनों बास्केटबॉल का जबरदस्त क्रेज देखने को मिल रहा है.
rakesh yadav
rakesh yadav | News18 Chhattisgarh
Updated: July 17, 2019, 2:54 PM IST
छत्तीसगढ़ में हॉकी की नर्सरी कहे जाने वाले राजनांदगांव में इन दिनों बास्केटबॉल का जबरदस्त क्रेज देखने को मिल रहा है. इसकी वजह साल 2020 में 18 से 25 अप्रैल तक को होने वाली वर्ल्ड स्कूल बास्केटबॉल प्रतियोगिता है. राजनांदगांव में भारीतय खेल प्राधिकरण (साई) की इसके लिए कड़ी मशक्कत जारी है. खेल की तकनीक के साथ ही अन्य पहलुओं पर भी फोकस किया जा रहा है.

यहां स्पीड और आर्म स्ट्रेंथ के लिए बास्केटबॉल खिलाड़ी जमकर पसीना बहा रहे हैं. साई सेंटर के 123 ऐसे खिलाड़ी हैं, जो प्रशिक्षण ले रहे हैं. वहीं यूएसए से आई हुई इंटरनेसनल बास्केटबॉल महिला कोच टीओना कैम्पवेल खिलाड़ियों को खेल की बारीकियां सीखा रही हैं. जिसमें महिला और पुरुष दोनों वर्ग के खिलाड़ी शामिल हैं.

नक्सल प्रभावित खिलाड़ियों को भी मौका
राजनांदगांव में कुछ ऐसे भी खिलाडी हैं, जो नक्सल प्रभावित बस्तर से लेकर सरगुजा संभाग से खेलो इंडिया के तहत पहुंचे हैं. उन खिलाड़ियों में भी जबरदस्त जज्बा दिखाई दे रहा है. प्रशिक्षक टीओना कैम्पवेल का कहना है कि मैं यहां बच्चों को बास्केटबॉल का प्रशिक्षण देने आई हूं. साथ ही नक्सल प्रभावित क्षेत्र के बच्चो को भी यहां प्रशिक्षण दिया जा रहा है. खिलाड़ी निशा कश्यप का कहना है कि अब अंतरराष्ट्रीय स्तर की अगले साल होने वाली प्रतियोगिता के लिए अभी से तैयारी कर रहे हैं. इसका लाभ हमें टूर्नामेंट में मिलेगा.

ये भी पढ़ें: बच्ची की हत्या कर आरोपी ने मां से कहा- तुम्हारी बेटी को बैकुंठ लोक भेज दिया 

ये भी पढ़ें: 66 साल की बुजुर्ग महिला के दौलत पर थी नजर, हथियाने इस शख्स ने किया ये खौफनाक काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए राजनांदगांव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 2:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...