जिला अस्पताल में तीन महिलाओं के गर्भ में बच्चों की मौत, परिजनों ने किया हंगामा
Rajnandgaon News in Hindi

जिला अस्पताल में तीन महिलाओं के गर्भ में बच्चों की मौत, परिजनों ने किया हंगामा
जिला अस्पताल में तीन महिलाओं के गर्भ में बच्चों की मौत

राजनांदगांव के जिला अस्पताल में उस समय हंगामा मच गया जब प्रसव कराने आई तीन महिलाओं के गर्भ में ही बच्चों की मौत हो गई. अपर कलेक्टर अनिल बाजपेयी ने पीड़ित दोषी डॉक्टर पर कार्रवाई का आश्वासन दिया है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव के जिला अस्पताल में उस समय हंगामा मच गया जब प्रसव कराने आई तीन महिलाओं के गर्भ में ही बच्चों की मौत हो गई. हद तो तब हो गई जब नंदनी साहू नामक एक महिला को प्रसव पीड़ा के दौरान देर रात अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन इलाज के अभाव में महिला के गर्भ में ही बच्चे की मौत हो गई. इसके बाद भी अगले दिन गुरुवार दोपहर 3 बजे तक महिला का ऑपरेशन नहीं किया गया और ना ही कोई डॉक्टर महिला की सूध लेने पहुंचा.

इधर, महिला की हालत बिगड़ता देख परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया. हालांकि उसके बाद भी डॉक्टरों ने कोई ध्यान नहीं दिया. वहीं इसके अलावा दो अन्य गर्भवती महिला राजेश्वरी और सुलोचना के बच्चों की भी गर्भ में ही मौत हो गई. अस्पताल प्रबंधन की इतनी बड़ी लापरवाही के बाद भी किसी भी डॉक्टर ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया.

वहीं इन घटनाओं के बाद जब मीडिया के लोग मौके पर पहुंचे, तब जाकर जिला अस्पताल प्रबंधन और वहां के डॉक्टर हरकत में आए. बता दें कि जिला अस्पताल में लगातार ऐसी लापरवाही देखने मिलती है. बहरहाल, अस्पताल का माहौल बिगड़ता देख अपर कलेक्टर और एसडीएम तत्काल अस्पताल पहुंचे और डॉक्टरों को जमकर फटकार लगाई.



वहीं अपर कलेक्टर अनिल बाजपेयी ने पीड़ित परिजनों को आश्वासन दिया है कि दोषी डॉक्टर पर कार्रवाई जरूर होगी और जो भी दोषी होंगे उन्हें बक्सा नहीं जाएगा. बता दें कि इस दौरान प्रसव वार्ड में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी थी और डॉक्टरों की लापरवाही साफ देखने मिल रही थी.
ये भी पढ़ें:- राजनांदगांव: सड़क निर्माण में लगे तीन वाहनों में नक्सलियों ने लगाई आग

ये भी पढ़ें:- राजनांदगांव जिले के किसान अब बिचौलियों के बजाय सीधे ग्राहकों को बेच पाएंगे सब्जियां

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज