होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /CGBSE 10th Results 2022: दामिनी वर्मा ने प्रदेश में पाया दूसरा स्थान, जानिए रोजाना कितने घंटे की पढ़ाई

CGBSE 10th Results 2022: दामिनी वर्मा ने प्रदेश में पाया दूसरा स्थान, जानिए रोजाना कितने घंटे की पढ़ाई

12वीं के रिजल्ट में 79.30 प्रतिशत छात्र पास हुए हैं, वहीं 10वीं कक्षा में 74.23 फीसदी छात्र पास हुए हैं.

12वीं के रिजल्ट में 79.30 प्रतिशत छात्र पास हुए हैं, वहीं 10वीं कक्षा में 74.23 फीसदी छात्र पास हुए हैं.

छत्तीसगढ़ बोर्ड परीक्षाओं का परिणाम शनिवार को घोषित कर दिया गया है. कक्षा 10वीं में सुमन पटेल ने टॉप किया है. वहीं 12वी ...अधिक पढ़ें

राजनादगांव. छत्तीसगढ़ बोर्ड परीक्षाओं 10वीं और 12वीं का परिणाम शनिवार को जारी कर दिया गया. 10वीं बोर्ड की परीक्षा में दामिनी वर्मा ने गांव के सरकारी स्कूल से पढ़ाई कर प्रदेश में दूसरा स्थान हासिल किया है. राजनादगांव जिले के खैरझिटी गांव में रहने वाली दामिनी वर्मा गांव के ही सरकारी स्कूल में पढ़ती हैं. दामिनी वर्मा 10 वीं कक्षा में 98 .17 प्रतिशत अंकों के साथ प्रदेश में दूसरे स्थान पर रहीं. दामिनी के टॉप टेन में जगह बनाने के बाद घर में बधाई देने बड़ी संख्या में लोग पहुंचे.

मिठाई खिलाकर खुशिया बांटी. जिला पंचायत सदस्य राजेश श्यामकर भी दामिनी साहू को बधाई देने गांव पहुंचे. राजेश ने कहा कि पुरे गांव के लिए गर्व की बात है गांव की बेटी ने शासकीय स्कूल में पढ़कर टॉप टेन में जगह बनाई है. उन्होंने आगे कहा कि दामिनी वर्मा की माता की असमय मृत्यु के बाद भी बच्ची ने लग्न से पढ़ाई की और आज गांव का मान सम्मान बढ़ाया है.

दो साल पहले उठा मां का साया
टॉप टेन में जगह बनाने वाली दामिनी वर्मा के परिवार की बात करें तो बीते दो साल पहले उसकी मां की असमय मौत हो गई थी. घर में एक छोटी बहन, एक छोटा भाई, पापा, दादा, दादी हैं. दामिनी सबसे बड़ी बेटी है. दामिनी के पिता जीवन वर्मा गांव-गांव जाकर बारदाना खरीदने बेचने का काम करते हैं. दामिनी वर्मा का कहना है कि वो प्रतिदिन 4 से 5 घंटा पढ़ाई करती है और घर का कामकाज भी करती है. वह आगे चलकर खगोशास्त्री बनना चाहती है.

दामिनी वर्मा को 10 की परीक्षा में 600 अंक में 589 अंक मिले हैं. इसी के साथ प्रदेश में 98 .1 7 प्रतिशत अंक लाकर दूसरा स्थान हासिल किया है. दामिनी के पिता जीवन वर्मा का कहना है मुझे बहुत ख़ुशी हुई. जीवन वर्मा ने कहा कि दामिनी के लिए जीवन मुश्किल है. मां नहीं होने की वजह से घर का काम भी करना पड़ता है. घर के काम में हाथ बंटाने के साथ बिना ट्यूशन के यह मुकाम हासिल करना गर्व की बात है. हमें अपनी बेटी पर गर्व है.

Tags: Chhattisgarh news, Rajnandgaon news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें