लाइव टीवी

ग्राहक सेवा केंद्र में एक करोड़ का गोलमाल, संचालक पर लगा ग्राहकों से ठगी का आरोप
Rajnandgaon News in Hindi

Rakesh Kumar Yadav | News18 Chhattisgarh
Updated: February 21, 2020, 10:53 AM IST
ग्राहक सेवा केंद्र में एक करोड़ का गोलमाल, संचालक पर लगा ग्राहकों से ठगी का आरोप
फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है. (Demo Pic)

पुलिस ने इस मामले में ग्राहक सेवा केंद्र के मुख्य संचालक ईश्वर डोंगरे को गिरफ्तार कर लिया है. फिलहाल, मामले की जांच पुलिस कर रही है.

  • Share this:
राजनांदगांव. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के राजनांदगांव (Rajnandgaon) जिले के में ठगी (Fraud) का एक बड़ा मामला सामने आया है. शहर के लाल बाग थाना क्षेत्र के रेंगाकठेरा गांव में  एसबीआई सेवा केंद्र में एक करोड़ रुपये से अधिक का गोलमाल किया गया है. आरोप है कि सेवा केंद्र के संचालक ने ही ग्राहकों को फर्जी पासबुक (Fake Passbook) और बॉन्ड पेपर के जरिए इस वारदात को अंजाम दिया है. दरअसल, राजनांदगांव शहर से लगभग 10 किलोमीटर दूर रंगकठेरा में खोले गए ग्राहक सेवा केंद्र के संचालक पर एक करोड़ से अधिक की जमा राशि का गोलमाल करने का आरोप लगा है. बताया जा रहा है कि संचालक ने ही ग्राहकों के जमा रुपये का गबन किया है. ग्रामीणों ने इसकी सूचना सम्बन्धित पुलिस थाना में दी है. पुलिस ने इस मामले में ग्राहक सेवा केंद्र के मुख्य संचालक ईश्वर डोंगरे को गिरफ्तार कर लिया है. फिलहाल, मामले की जांच पुलिस कर रही है.


ग्रामीणों ने किया एसबीआई सेवा केंद्र का घेराव





राजनांदगांव से 10 किलोमीटर दूर ग्राम रंगकठेरा में उस समय हड़कंप मच गया जब गांव की एक महिला अपने अकाउंट से पैसा निकालने भारतीय स्टेट बैंक के ग्राहक सेवा केंद्र पहुंची. तब उसे पता चला कि उसके खाते में एक भी पैसा नहीं है और उसका पैसा यहां कार्यरत कर्मचारी ने निकाल लिया है, जिसकी सूचना उसने ग्रामीणों को दी. फिर ग्रामीणों ने अपने-अपने खाते की जांच की तो पता चला कि लगभग सभी ग्रामीणों के खाते से पैसे निकाल लिए गए हैं और उनके खाते में जीरो बैलेंस है.


ग्रामीणों का आरोप


ग्रामीणो का कहना है कि ग्राहक सेवा केंद्र में लगभग 10 से 12  गांव के रुपये जमा होते हैं और यहां लगभग 5 से 6 हजार खाता है. इसकी राशि लगभग एक करोड़ के आस-पास बताई जा रही है. ग्रामीणों ने बताया कि एक-एक पैसा जोड़कर और अपने खेत बेचकर बच्चे की पढ़ाई, लिखाई और शादी के लिए रुपये जमा किए थे जो कि अब एक ही झटके में उनके हाथ से निकल गए हैं. ग्रामीणों ने यह बताया कि जब पैसा निकालने ग्राहक सेवा केंद्र जाते थे तो वहां बैठे कर्मचारी उन्हें सिर्फ ब्याज का पैसा ले जाने की बात कहते थे और मूलधन को अभी रहने दो कहकर उन्हें वापस लौटा देते थे.




मामले की जांच की बात पुलिस कर रही है.





ऐसे हुआ मामले का खुलासा


गांव के ही एक ग्रामीण का कहना है कि उनके परिवार में शादी चल रही है और वह अपना पैसा डेढ़ लाख रुपये निकालने के लिए ग्राहक सेवा केंद्र आया हुआ था. लेकिन यहां ताला लगा होने के कारण उसे वापस लौटना पड़ा. इससे बाद उन्होंने खाते की जांच की तो पता चला कि उनके खाते में एक भी रुपये नहीं है. इसके बाद कुछ ग्रामीणों ग्राहक सेवा केंद्र पहुंचे और पुलिस को इसकी सूचना दी. इसके बाद ग्राहक सेवा केंद्र के कर्मचारी को मौके पर लाया गया. ग्राहक सेवा केंद्र के कर्मचारी का साफ कहना था कि इस मामले में उसे किसी तरह की कोई जानकारी नहीं है.


जांच में जुटी पुलिस


वहीं इस पूरे मामले पर सीएसपी एमएस चन्द्रा का कहना है कि ग्रामीणों द्वारा मामले की शिकायत की गई है कि ग्राहक सेवा केंद्र में कर्मचारियों ने उनके खातों से राशि निकाल ली है. फिलहाला मामले की जांच की जा रही है. इस मामले में मुख्य संचालक ईश्वर डोंगरे को  गिरफ्तार किया गया है और पूछताछ की जा रही है.






ये भी पढ़ें:




News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए राजनांदगांव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 21, 2020, 10:49 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर