संतोष पांडेय: संघ के सहारे बीजेपी के गढ़ में साख बचाने की चुनौती

छत्तीसगढ़ में हाई प्रोफाइल सीटों में से एक राजनांदगांव सीट से बीजेपी ने राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ से बचपन से जुड़े संगठन नेता संतोष पांडेय को मैदान में उतारा है.

News18Hindi
Updated: May 19, 2019, 1:31 PM IST
संतोष पांडेय: संघ के सहारे बीजेपी के गढ़ में साख बचाने की चुनौती
संतोष पांडेय.
News18Hindi
Updated: May 19, 2019, 1:31 PM IST
छत्तीसगढ़ में हाई प्रोफाइल सीटों में से एक राजनांदगांव सीट से बीजेपी ने राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ से बचपन से जुड़े संगठन नेता संतोष पांडेय को मैदान में उतारा है. पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के बेटे अभिषेक सिंह का टिकट काटकर पार्टी ने संतोष को प्रत्याशी बनाकर बड़ा जोखिम लिया है. क्योंकि साल 2014 के चुनाव में छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा 2 लाख 35 हजार वोटों की लीड से अभिषेक सिंह ने चुनाव जीता था.

राजनांदगांव बीजेपी का गढ़ माना जाता है. ऐसे में संतोष पांडेय को यहां जीत बरकरार रख पार्टी की साख बचाने की चुनौती है. संतोष पांडेय राजनांदगांव संसदीय क्षेत्र के कबीरधाम जिले के लोहारा ब्लॉक निवासी है. शिवप्रसाद पांडेय के बेटे संतोष सरसलोहारा के दरगवां गांव के किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले संतोष का जन्म 2 दिसंबर 1967 को हुआ. संतोष ने बीए के बाद एलएलबी तक की शिक्षा ली. संतोष पांडेय के दो पुत्र हैं.



बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के साथ संतोष पांडेय.


संतोष ने अपने राजनीतिक कॅरियर की शुरुआत अपने ही गांव से की. वे बचपन से ही संघ फिर से बीजेपी से जुड़ गए. पहले सरसपुर लोहारा ब्लॉक के पार्टी अध्यक्ष बने. इसके बाद कवर्धा आए और यहीं से पार्टी को मजबूत करने के काम में जुट गए. संतोष दो बार जिला भाजयुमो के अध्यक्ष रहे. इसके अलावा राज्य में पूर्व की बीजेपी सरकार में युवा आयोग के अध्यक्ष भी रहे. संतोष पांडेय भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष सहित संगठन में अन्य महत्वपूर्ण

वर्तमान में प्रदेश बीजेपी के महामंत्री संतोष पांडेय के संसदीय चुनाव में राजनांदगांव से सीधा मुकाबला कांग्रेस के पूर्व विधायक भोलाराम साहू से है. युवा नेता अभिषेक सिंह की टिकट काटकर सांतोष को बीजेपी से प्रत्याशी बनाये जाने का नुकसान भी इस सीट से बीजेपी को हो सकता है, लेकिन फिर भी पूरे चुनाव प्रचार के दौरान संतोष न सिर्फ तेजी से प्रचार किये. बल्की संगठन के दम पर खुद की मजबूत प्रत्याशी की छवि जनता के बीच बनाने की कोशिश भी करते रहे.

अपनी पत्नी के साथ संतोष पांडेय.


राजनांदगांव सीट से डॉ. रमन सिंह, प्रदीप गांधी, मधुसुदन यादव, अभिषेक सिंह जैसे दिग्गज नेता ससंद तक का रास्ता बीजेपी की टिकट पर तय किए हैं. पिछले चार चुनावों से लगातार ​बीजेपी इस सीट पर जीतते भी रही है. ऐसे में संतोष पांडेय को इस सीट पर जीत सुनिश्चित करना चुनौती है.
Loading...

ये भी पढ़ें: ज्योत्सना महंत: पति के राजनीतिक सफर के सहारे संसद का रास्ता तय करने की जुगत 
ये भी पढ़ें: सुनील सोनी: रायपुर शहर के भरोसे संसद जाने की तैयारी, बीजेपी की साख बचाने की चुनौती 
ये भी पढ़ें: विजय बघेल: अब के सीएम भूपेश बघेल को दे चुके हैं मात, दुर्ग से दे रहे 'सरकार' को टक्कर 
ये भी पढ़ें: दीपक बैज: बस्तर के 'हीरो', 20 साल बाद रोकेंगे बीजेपी का विजय रथ! 
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...