20 से अधिक बंदरों के मृत पाए जाने से क्षेत्र में दहशत
Rajnandgaon News in Hindi

20 से अधिक बंदरों के मृत पाए जाने से क्षेत्र में दहशत
बंदरों के मृत मिलने पर जमा ग्रामीण

राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ ब्लॉक के ग्राम मोहरा से लगे कोटरी कछार व् मुड़िया मार्ग के बीच खार में लगे हैंड पंप के पास लगभग 20 से 25 बंदरो के मृत अवस्था में पाए गए. इतनी संख्या में एक साथ बंदरों के मृत मिलने से क्षेत्र में दहशत और हड़कंप का माहौल है.

  • Share this:
राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ ब्लॉक के ग्राम मोहरा से लगे कोटरी कछार व् मुड़िया मार्ग के बीच खार में लगे हैंड पंप के पास लगभग 20 से 25 बंदरों के मृत अवस्था में पाए गए. इतनी संख्या में एक साथ बंदरों के मृत मिलने से क्षेत्र में दहशत और हड़कंप का माहौल है.

पानी की तलाश में जंगल से भटकर आए बंदरों की मौत पर क्षेत्र के लोगों ने सवाल उठाया है तो वहीं वन विभगा के अधिकारी इस मामले में कुछ भी बोलने से मना कर रहे है.वहीं ग्रामीण मौत के लिए सरकार और जिला प्रशासन को दोषी बता रहे हैं. विषैले पानी की सैंपल को जबलपुर स्थित वाइल्ड लाइफ फॉरेंसिक लेब में जांच के लिए भेजा गया है. लेब के रिपोर्ट आने के बाद ही पुलिस कार्यवाही करने की बात कह रही है.

मुड़िया गांव के बीच खार में स्थित हैंड पंप के सहारे गांव के लगभग 1000 हजार लोग अपना जीवन यापन कर रहे हैं.गांव का तालाब और दूसरे हैंड पंप सुख चुके हैं.यही हेण्डपम्प से गांव वाले पीने और दूसरी जरुरत को पानी लेते हैं. पिछले एक माह से इस हैंड पंप के पानी को बंदरो के द्वारा पिया जा रहा है.ग्रामीणों ने आशंका जताई है कि जो नल के नीचे पानी रोकने के लिए जगह बनाई गई है, उसमें किसी ने जहर डाला, जिससे बंदरों की मौत हुई.



ग्रामीणों ने कहा कि वह खुद इसी हैंड पंप का पानी पीते हैं और अपने जानवरों को भी पिलाते हैं. ऐसे में उन सबकी जान को भी खतरा हो सकता है. कांग्रेस के प्रतिनिधियों मुड़िया गांव पहुंच इस मामले की जानकारी ली. कांग्रेस के नेताओ का कहना है की एक तरफ भाजपा विकास यात्रा निकाल रही है, वहीं क्षेत्र में जनता और जानवर पानी के लिए तरस रहे हैं और जानवरों की मौत भी हो रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज