Home /News /chhattisgarh /

नवरात्र पर मां बमलेश्वरी के दरबार में लगा भक्‍तों का तांता

नवरात्र पर मां बमलेश्वरी के दरबार में लगा भक्‍तों का तांता

छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव के डोगरगढ़ में मां बमलेश्वरी चैत्र नवरात्रि का सोमवार को तीसरा दिन है। यहां माता रानी के दर्शन के लिए लाखों श्रद्धालुओं का तांता लगा है। बता दें कि मां बमलेश्वरी का यश इतना है कि सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए पुलिस के आठ सौ जवान और अधिकारी तैनात किए गए हैं।

छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव के डोगरगढ़ में मां बमलेश्वरी चैत्र नवरात्रि का सोमवार को तीसरा दिन है। यहां माता रानी के दर्शन के लिए लाखों श्रद्धालुओं का तांता लगा है। बता दें कि मां बमलेश्वरी का यश इतना है कि सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए पुलिस के आठ सौ जवान और अधिकारी तैनात किए गए हैं।

छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव के डोगरगढ़ में मां बमलेश्वरी चैत्र नवरात्रि का सोमवार को तीसरा दिन है। यहां माता रानी के दर्शन के लिए लाखों श्रद्धालुओं का तांता लगा है। बता दें कि मां बमलेश्वरी का यश इतना है कि सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए पुलिस के आठ सौ जवान और अधिकारी तैनात किए गए हैं।

अधिक पढ़ें ...
छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव के डोगरगढ़ में मां बमलेश्वरी चैत्र नवरात्रि का सोमवार को तीसरा दिन है। यहां माता रानी के दर्शन के लिए लाखों श्रद्धालुओं का तांता लगा है। बता दें कि मां बमलेश्वरी का यश इतना है कि सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए पुलिस के आठ सौ जवान और अधिकारी तैनात किए गए हैं।

प्राचीनकाल में डोगरगढ़ को कामावतीपुरी कहा जाता था। यहां के राजा वीरसेन की कुलदेवी मां को बमलेश्वरी कहा जाता है। राजा वीरसेन मां बमलेश्वरी के उपासक थे। माना जाता है कि मां बमलेश्वरी दो सौ साल से अधिक समय से पहाड़ में विराजी हैं।

हर साल चैत्र नवरात्रि में मां बमलेश्वरी के दरबार में भक्त ज्योति कलश जलाते हैं। बता दें कि इस साल डोगरगढ़ में सात हजार ज्योति कलश प्रज्‍जवलित की जा रही है।

बताया जाता है कि नवरात्रि में 10 लाख से भी ज्यादा श्रद्धालु यहां माता के दर्शन के लिए आते हैं।

पूजा करने आए श्रद्धालुओं का कहना है कि वो यहां मां बमलेश्वरी के दर्शन के लिए कई सालों से आ रहे हैं। उनका कहना है कि यहां पर्यटन स्थल जैसी सुविधाएं होनी चाहिए ताकि बाहर से आए भक्त माता के दर्शन के साथ-साथ यहां के मनोरम दृश्यों का भी आनंद ले सकें। श्रद्धालुओं का कहना है कि उन्होंने जो भी यहां मनोकामनाएं मांगी हैं वो पूरी हुईं। इसलिए वो हर साल यहां मां का धन्यवाद करने के लिए आते हैं।

मंदिर समिति, डोगरगढ़ के कोषाध्यक्ष अशोक साहु ने कहा कि ज्योति कलश न सिर्फ भारत से आए श्रद्धालुओं ने स्थापित किया है बल्कि कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और सउदी अरब से भी आए भक्तों ने ज्योति कलश की स्थापना की है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनकी पत्नी के नाम से भी ज्योति कलश की स्थापना की गई है। श्रद्धालुओं को सुविधाएं उपलब्ध कराना साहु ने मंदिर ट्रस्ट की पहली प्राथमिकता बताई।

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर