'सरकार से नहीं मिला मकान, खुले में सोने से ठंड का शिकार हुआ युवक, चंदे से अंतिम संस्‍कार'
Rajnandgaon News in Hindi

'सरकार से नहीं मिला मकान, खुले में सोने से ठंड का शिकार हुआ युवक, चंदे से अंतिम संस्‍कार'
जरूरतमंद को नहीं मिल रहा पीएम आवास, ठंड में जवान बेटे ने गवाई जान

ग्रामीणों और परिजनों की मानें तो झोपड़ी में जगह नहीं होने से सप्ताह भर से वह बाहर ठिठुरती ठंड में सो रहा था, जिससे उसकी मौत हो गई.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले में ठंड से एक युवक की मौत हो गई. ग्रामीणों और परिजनों की मानें तो झोपड़ी में जगह नहीं होने से सप्ताह भर से वह बाहर ठिठुरती ठंड में सो रहा था, जिससे उसकी मौत हो गई. घटना लालबाग थाना के सिंघोल गांव की है. परिवार इतना गरीब है कि अंतिम संस्कार भी उन्हें चंदा इकट्ठा कर करना पड़ा.

मृतक के परिवार का कहना है कि पीएम आवास की सूची में नाम होने के बावजूद प्रशासनिक लापरवाही के कारण मकान नसीब नहीं हुआ. ऐसे में बाहर सोने के कारण युवक की जान चली गई.

मृतक की पहचान 22 वर्षीय गुमान यादव के रूप में हुई है, जो अपने पिता दशरू राम और मां पेमिन बाई के साथ एक छोटी सी झोपड़ी में रह रहा था. कुछ माह पहले पिता का नाम पीएम आवास योजना में दर्ज किया गया. इसके बाद दूसरी नई सूची में दशरू का नाम ही गायब कर दिया गया.



इसी बीच परिवार को कड़ाके की सर्दी में झोपड़ी में रहना पड़ा. बढ़ी ठंड से परिवार का जीना मुहाल हो गया. वहीं झोपड़ी में जगह नहीं होने की वजह से गुमान यादव बीते एक हफ्ते से बाहर सो रहा था. इस दौरान ठंड लगने से उसकी मौत हो गई.
वहीं मामले में पूछे जाने पर ग्राम पंचायत के सरपंच ने अपना पलड़ा झाड़ लिया है. उनका कहना है कि तहसील में अवैध आवास बनाकर रह रहे लोगों पर केस चल रहा है, जिस कारण जरूरतमंद लोगों को अभी पीएम आवास नहीं दिया गया है.

ये भी पढ़ें:- राजनांदगांव में गिरता जा रहा शिक्षा का स्तर, ये है वजह

ये भी पढ़ें:- राजनांदगांव में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, तकरीबन एक घंटे हुई फायरिंग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज