रेत माफियाओं पर कार्रवाई न करने पर ग्रामीणों ने दी आंदोलन की चेतावनी
Rajnandgaon News in Hindi

रेत माफियाओं पर कार्रवाई न करने पर ग्रामीणों ने दी आंदोलन की चेतावनी
रेत माफियाओं पर कार्रवाई न करने पर ग्रामीणों ने दी आंदोलन की चेतावनी

रेत तस्कर बेखौफ होकर रात के अंधेरे में जेसीबी मशीन लगाकर अवैध रूप से रेत उत्खनन कर ट्रकों और डम्परों के माध्यम से अवैध परिवहन कर रहे हैं.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले में नदी से अवैध रेत उत्खनन और अवैध परिवहन का गोरख धंधा धड़ल्ले से जारी है. रेत तस्कर बेखौफ होकर रात के अंधेरे में जेसीबी मशीन लगाकर अवैध रूप से रेत उत्खनन कर ट्रकों और डम्परों के माध्यम से अवैध परिवहन कर रहे हैं. बता दें कि जिले के डोंगरगांव ब्लॉक के पैरी नदी के किनारे लगे गांव भरदा, केसला, टोला समेत दर्जनों गांवों में बिना परमिशन के करोड़ों रुपए की रेत का उत्खनन और परिवहन किया जा रहा है.

बीते 20 जून की रात जिले केडोंगरगांव ब्लॉक के ग्राम केसला से देर रात रेत चोरी कर ले जा रहे वाहन में उसी वाहन के हेल्पर की दबने से मौत हो गई थी, जिसके बाद मृतक के परिजनों द्वारा हंगामा करते हुए थाना डोंगरगांव का घेराव किया गया था. बहरहाल, ग्रामीणों का कहना है कि ट्रक राजनांदगांव निवासी पवन ज्ञानचंदानी का है. रेत चोरी की शिकायत जिला खनीज विभाग के अलावा कलेक्टर और डोंगरगांव एसडीएम को लिखित और मौखिक रूप से कई बार कर चुके हैं, लेकिन इन अधिकारियों द्वारा रेत माफियाओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है.

ग्रामीणों का कहना है कि उनसे मिलीभगत कर रिश्वत लेकर उन्हें रेत की चोरी करने दिया जा रहा है. ग्रामीणों ने कहा कि संबंधित विभाग से शिकायत करने के बावजूद अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है. यही वजह है कि रेत माफियाओं द्वारा अधिकारियों की शह पर नदी से रेत की दिन और रात अवैध उत्खनन और परिवहन करवाया जा रहा है.



हर दिन हजारों ट्रिप रेत उत्खनन के चलते नदी का बहाव भी कट रहा है. आने वाले दिनों में इसका गांव वालों पर असर होने की बात कही है. ग्रामीणों का कहना है कि अब अगर इस गोराख धंधे के खिलाफ खनीज विभाग और एसडीएम ने कोई कड़ी कार्रवाई नहीं की तो, वे धरना प्रदर्शन करने पर मजबूर हो जाएंगे.
 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज