पति को फंसाने प्रेमी के साथ मिलकर पत्नी ने रची थी ये खौफनाक साजिश, खुद फंसी

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के राजनांदगांव (Rajnandgaon) में एक महिला अपनी ही साजिश का शिकार हो गई.

News18 Chhattisgarh
Updated: September 1, 2019, 8:42 AM IST
पति को फंसाने प्रेमी के साथ मिलकर पत्नी ने रची थी ये खौफनाक साजिश, खुद फंसी
छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव में एक महिला अपनी ही साजिश का शिकार हो गई. सांकेतिक फोटो.
News18 Chhattisgarh
Updated: September 1, 2019, 8:42 AM IST
छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के राजनांदगांव (Rajnandgaon) में एक महिला अपनी ही साजिश का शिकार हो गई. प्रेमी के साथ मिलकर रची गई इस साजिश में वो खुद फंस गई. इस साजिश में महिला के प्रेमी (Lover) का एक दोस्त भी शामिल था. पुलिस (Police) ने तीनों को गिरफ्तार (Arrest) कर लिया है. आरोपी महिला ने प्रेमी के साथ मिलकर अपने ही पति को नक्सली साबित करने की साजिश रच रखी थी, लेकिन वो अपने मंसूबे में कामयाब हो पाती, इससे पहले पुलिस ने उसके साथियों के साथ उसे गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने अपना जुर्म भी ​कबूल कर लिया है.

राजनांदगांव पुलिस (Rajnandgaon Police) से मिली जानकारी के मुताबिक मामला डोंगरगांव (Dongargaon) के कविराजटोला गांव का है. कविराजटोला निवासी पवन ज्ञानचंदानी का अपनी पत्नी निर्मला ज्ञानचंदानी से पिछले कई दिनों से ​विवाद चल रहा था. इसके चलते दोनों अलग अलग रहते हैं. महिला निर्मला अपने प्रेमी इमानवेल (30) के साथ पेंड्री स्थित अटल आवास में रहती थी. पति से बदला लेने के लिए उसने प्रेमी के साथ मिलकर साजिश रची.

Wife wanted to prove Maoist to husband, Lover, Crime in Rajnandgaon Chhattisgarh Police, Naxalite in chhattisgarh, छत्तीसगढ़ में नक्सली, पति को फंसाने की साजिश, महिला गिरफ‌तार, प्रेमी के साथ मिलकर साजिश, राजनांदगांव पुलिस, अपराध
आरोपियों द्वारा श्मशान में लगाया गया बैनर. फाइल फोटो.


की थी ये साजिश

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक पवन ज्ञानचंदानी को फंसाने के लिए निर्मला, उसका प्रेमी इमानवेल और राजीव नगर बसंतपुर निवासी इमानवेल के दोस्त महेंद्र ने स्वतंत्रता दिवस के पहले डोंगरगांव से लगे ग्राम बुद्धूभरदा श्मशानघाट के अलावा पैरी नदी के पास कथित नक्सली (Naxalite) बैनर-पोस्टर लगाया था. इसमें स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा नहीं फहराने की धमकी दी गई थी. आरोपियों द्वारा लगाए गए इस बैनर पोस्टर में उन्होंने पवन को नक्सली कमांडर बताया था. इतना ही नहीं बीते 23 अगस्त की रात को आरोपियों ने पवन की कार के बाहर नक्सली बैनर लगा दिया. कार के भीतर भी बैटरी, इलेक्ट्रिक वायर आदि कुछ संदेहास्पद सामग्री डाल दी. इसके बाद उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना भी दी.

बाजार से खरीदे थे सामना
राजनांदगांव के एएसपी यूबीएस चौहान ने बताया कि मामले की जांच के बाद पुलिस को पता चला कि पवन का पत्नी से विवाद चल रहा है. इसके आधार पर उस पर नजर रखी गई तो मामले का पता चला. इसके बाद पुलिस ने तीनों को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने अपना अपराध स्वीकार कर लिया. आरोपियों ने सुकुलदैहान के एक दुकान से नक्सली बैनर बनाने के सामान खरीदे थे. पुलिस ने तीनों के खिलाफ राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम की धारा 2 के अलावा धारा 505, 506, 507 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है. बीते 31 अगस्त को उन्हें न्यायिक रिमांड पर जेल दाखिल कर दिया गया है.
Loading...

ये भी पढ़ें: पूर्व सीएम अजीत जोगी को बताया फर्जी आदिवासी, इस समाज ने किया निष्कासित 

ये भी पढ़ें: दंतेवाड़ा उपचुनाव: क्या सिंपैथी पॉलिटिक्स के सहारे फिर जीत दर्ज कर पाएगी BJP? 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए राजनांदगांव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 1, 2019, 8:42 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...