पर्यावरण बचाने के लिए यश सोनी ने झोंक दिया जीवन, 24 हजार किलोमीटर चला चुके हैं साइकिल

24 हजार किलोमीटर साइकिल चलाकर यश ने दिया पर्यावरण बचाने का बड़ा संदेश, महज तीन दिन में 800 किलोमीटर की दूरी तय.

24 हजार किलोमीटर साइकिल चलाकर यश ने दिया पर्यावरण बचाने का बड़ा संदेश, महज तीन दिन में 800 किलोमीटर की दूरी तय.

पर्यावरण प्रेम के लिए शहर को सुंदर बनाने के लिए वह 3 दिनों में 800 किलोमीटर साइकिलिंग करके इंदौर पहुंचे थे. यस ने इसकी शुरुआत 1 साल पहले की थी, लेकिन एन समय पर कोरोना महामारी के चलते डाउन होने से यस बीच में ही अपने अभियान को रोक दिए थे. जिसे अब उसने पुरा कर लिया. पर्यावरण के प्रति लोगों को इस के द्वारा जागरुक किया जा रहा है.

  • Share this:

राजनांदगांव. अगर कुछ करने की इच्छा हो तो हर काम की राह आसान हो जाती है. शहर के फवारा चौक में रहने वाले 23 वर्षीय यश सोनी ( Yash Soni) ने कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है. पर्यावरण ( Environment ) प्रेम के लिए शहर को सुंदर बनाने के लिए वह 3 दिनों में 800 किलोमीटर साइकिलिंग करके इंदौर पहुंचे थे. यस ने इसकी शुरुआत 1 साल पहले की थी, लेकिन एन समय पर कोरोना महामारी के चलते डाउन होने से यस बीच में ही अपने अभियान को रोक दिए थे. जिसे अब उसने पुरा कर लिया. पर्यावरण दिवस पर यह युवक लोगों को जागरुक कर रहा है, ताकि लोगों का पर्यावरण के प्रति झुकाव बढ़े.

पर्यावरण के प्रति जागरुक करने 24 हजार किलोमीटर चलाई साइकिल

राजनांदगांव नगर निगम को स्वच्छता सर्वे में आगे रैंक में लाने और स्वच्छ बनाने के लिए इंदौर सहित बैतूल व नागपुर गए थे. इस दौरान उन्होंने साइकिल से ही तीनों शहर में सफाई व्यवस्था का जायजा लिया था और लॉकडाउन खत्म होने के बाद यश ने अपना अभियान पूरा करते हुए 20000 (बीस हजार) किलोमीटर का सफर साइकिल में ही पूरा किया. इस दौरान उन्होंने पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक किया. उनका कहना था कि कम दूरी के लिए लोग और अपने शहर में घूमने के लिए साइकिल का इस्तेमाल करें, ताकि पर्यावरण स्वस्थ रहे. साइकिलिंग करने से हेल्थ भी अच्छी रहती है. पेट्रोल और अन्य ईंधन की खपत भी कम हो जाती है, क्योंकि हम अगर साइकिल का इस्तेमाल करते हैं तो निश्चित ही पेट्रोल और डीजल बचेगा और पर्यावण स्वच्छ रहेगा.

यस का साइकिल और पर्यावरण के प्रति प्रेम ने एक ललक सी जगा दी. 5 साल की उम्र से साइकिल के प्रति इनका प्यार और जुनून आज भी बरकरार है. यस सोनी लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक कर रहे हैं, ताकि लोग बाइक और कार का कम से कम उपयोग करें. ऐसा करने से पर्यावरण सुरक्षित रहेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज