व्हील चेयर पर 100 साल के लक्ष्मीनारायण ने किया कत्थक, Video देख आप भी हो जाएंगे हैरान

100 साल के कुमार लक्ष्मीनारायण देव ने व्हील चेयर पर किया डांस.
100 साल के कुमार लक्ष्मीनारायण देव ने व्हील चेयर पर किया डांस.

संगीत की धुन और व्हील चेयर पर बैठे 100 साल के कुमार लक्ष्मीनारायण देव मंच को नृत्य करते देखना अद्भुत था. उनका यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

  • Share this:
सुकमा. भले ही सुकमा निवासी कुमार लक्ष्मीनारायण देव की उम्र 100 हो गई हो, लेकिन आज भी उनके जोश व जज्बे में कोई कमी नहीं आई है. इसका प्रमाण तब मिला, जब लगातार बीमार होने के बाद भी उन्होंने अपने 100वें जन्मदिन पर व्हील चेयर पर बैठ कथक व भरतनाट्यम कर सबको चौंका दिया. उनके हाथों की कला व चेहरे की मुद्रा देखकर हर कोई हैरान था. यह कार्यक्रम परिवार वालों ने बीते 17 जून को उनके जन्मदिन के अवसर पर जगदलपुर में आयोजित किया था. जहां पर परिवार के सदस्य शामिल हुए थे.

संगीत की धुन और व्हील चेयर पर बैठे 100 साल के कुमार लक्ष्मीनारायण देव मंच को नृत्य करते देखना अद्भुत था. इस उम्र में भी नृत्य के प्रति उनके लगाव और समर्पण को देख लोग हैरान थे. अब उनका यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल (Viral Video) हो रहा है. लक्ष्मीनारायण देव के बेटे ने बताया कि उनके पिता को 8 भाषाओं की जानकारी है. आजकल सेहत संबंधी परेशानियों की वजह से उनका नृत्य अभ्यास जरूर छूट जा रहा है, लेकिन जब भी मौका मिलता है, वे इसे जताने से नहीं चूकते हैं.

भरत नाट्यम व कथक के शौकीन



रंगाराज वृन्दावन देव के पुत्र कुमार लक्ष्मीनारायण देव सुकमा के जमींदार परिवार से हैं. उनका जन्म 17 जून 1920 को हुआ था. उन्होंने राजकुमार कॉलेज रायपुर व शांतिनितेकन कलकत्ता से शिक्षा हासिल की. असम में चाय बागान में मैनेजर भी रहे. अंग्रेजी में अच्छी पकड़ है, साथ ही 8 भाषाओं का ज्ञान भी है. उनके बेटों ने बताया कि लक्ष्मीनारायण देव को बचपन से ही भरतनाट्यम का शौक रहा है. उनके घर में चार पुत्र करण देव, अमर देव, कुमार जयदेव, किरण देव हैं. स्वास्थ्य परेशानी के चलते फिलहाल वे जगदलपुर में रह रहे हैं.


 

न्यूज 18 से चर्चा करते हुए उनके पुत्र करण देव ने बताया कि पिता कुमार लक्ष्मीनारायण को बचपन से ही भरतनाट्यम व कथक का शौक था. वे देशभर में कई प्रतियोगिता आयोजन में भाग ले चुके हैं. इस साल उनकी उम्र 100 साल हो गई है. उनका जन्मदिन मनाया गया, जहां उनका मनपंसद संगीत बजा तो पिता की उंगलियां हरकत करने लगीं. लक्ष्मीनारायण देव ने व्हील चेयर पर बैठे-बैठे ही भरतनाट्यम करना शुरू कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज