होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /सुकमा में नक्सलियों के खिलाफ सबसे बड़ी कार्रवाई को कांग्रेस ने बताया फर्जी

सुकमा में नक्सलियों के खिलाफ सबसे बड़ी कार्रवाई को कांग्रेस ने बताया फर्जी

सांकेतिक फोटो.

सांकेतिक फोटो.

कांग्रेस के आदिवासी नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविंद नेताम ने छत्तीसगढ़ के सुकमा मुठभेड़ को फर्जी करार दिया है.

    छत्तीसगढ़ में नक्सल हिंसा के खिलाफ सुकमा में की गई सुरक्षा बल की सबसे कार्रवाई के दावे पर कांग्रेस ने सवाल खड़े कर दिए हैं. कांग्रेस के आदिवासी नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविंद नेताम ने सुकमा मुठभेड़ को फर्जी करार दिया है. कांग्रेस नेता अरविंद नेताम का आरोप है कि मुठभेड़ में नाबालिगों को निशाना बनाया गया है. आरोप है कि मुठभेड़ में नक्सलियों नहीं बल्की आम ग्रामीणों को मारा गया है.

    कांग्रेस के आदिवासी नेता अरविंद नेताम ने बुधवार को जगदलपुर कांग्रेस भवन में प्रेसवार्ता ली. इसमें अरविंद नेताम ने सुकमा गोलापल्ली और कोंटा थाना क्षेत्र में बीते छह अगस्त को हुई मुठभेड़ को पूरी तरह फर्जी मुठभेड़ बताया. अरविंद नेताम ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के उस बयान पर भी सवाल उठाये, जिसमें मुख्यमंत्री ने कहा था कि नक्सली सरेंडर करें नहीं तो मरने के लिए तैयार रहें. नेताम ने कहा कि ये प्री प्लान ऑपरेशन था और उन्होंने घायल और गिरफ्तार नक्सली की गिरफ्तारी पर भी सवाल उठाए.

    Chhattisgarh News
    कांग्रेस के आदिवासी नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविंद नेताम.


    अ​रविंद नेताम ने मीडिया से चर्चा के दौरान आप नेत्री और समाज सेवी सोनी सोढ़ी की तारिफ की. अरविंद नेताम ने कहा कि बस्तर में फर्जी मुठभेड़ की हकीकत सामने लाने में सोनी सोढ़ी काफी मेहनत कर रही हैं. बता दें कि सोनी सोढ़ी ने भी सुकमा में हुई मुठभेड़ को फर्जी बताते हुए सुरक्षा बल की कार्रवाई पर सवाल खड़े किए थे.
    यह भी पढ़ें: ऑपरेशन मानसून में ढेर हुए नक्सलियों की वर्दी पर लिखा था 'Indian Army'!
    गौरतलब है कि सुकमा में आॅपरेशन मानसून के तहत सुरक्षा बल के जवानों ने मुठभेड़ में 15 नक्सलियों को मार गिराने का दावा किया. गोलापल्ली और कोंटा थाना क्षेत्र के बीच हुई इस मुठभेड़ में सुरक्षा बल के जवानों ने 15 नक्सलियों के शव के साथ हथियार और अन्य नक्सल समाग्री बरामद करने का दावा भी किया. इसके साथ ही दो नक्सलियों की गिरफ्तारी भी करने की बात कही गई. इस कार्रवाई को नक्सल हिंसा के खिलाफ इस साल की सबसे बड़ी कामयाबी बताया गया.
    यह भी पढ़ें: आॅपरेशन मानसून: सुकमा में सुरक्षा बल के जवानों ने मार गिराए 15 नक्सली

    Tags: Chhattisgarh news, Encounter in sukma, Naxal violence

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें