• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • Lockdown: घर जाने नहीं मिली गाड़ी, 150 किमी पैदल चलकर सुकमा पहुंचे मजदूर

Lockdown: घर जाने नहीं मिली गाड़ी, 150 किमी पैदल चलकर सुकमा पहुंचे मजदूर

पैदल चलकर मजदूर अपने घर  पहुंचे हैं.

पैदल चलकर मजदूर अपने घर पहुंचे हैं.

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जनता कर्फ्यू (Janta Curfew) के बाद पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने देशभर में लॉकडाउन (Lockdown) का एलान किया.

  • Share this:
सुकमा. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जनता कर्फ्यू (Janta Curfew) के बाद पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने देशभर में लॉकडाउन (Lockdown) का एलान किया. सभी को घरों में ही रहने की हिदायत दी गई. खासकर अब मजदूरों के लिए ये फैसला मुसीबत पैदा कर रहा है. लॉकडाउन (Lockdown) होने की वजह से उन्हें आने-जाने गाड़ी नहीं मिल रहा है. लिहाजा अब ये मजदूर पैदल सफर करने मजबूर हो रहे हैं. कुछ ऐसा ही मामला छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के सुकमा (Sukma) जिले से सामने आया है. दरअसल, लॉकडाउन की वजह से जिले की सीमा सील कर दी गई है. वाहनों की आवाजाही बंद कर दी गई है. ऐसे में 150 किमी पैदल चलकर करीब 3 दर्जन मजदूर कोंटा पहुंचे. सभी का स्वस्थ्य परीक्षण कर घर वापस भेजा गया. ऐसी खबर आ रही है कि अभी भी बड़ी संख्या में आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) और तेलंगाना (Telangana) में मजदूर फंसे हुए है.


बता दें कि गुरुवार शाम करीब तीन दर्जन मजदूर अपने परिवार के साथ कोंटा पहुंचे. इन सभी मजदूरों को पहले स्थानीय प्रशासन सीमा पर ही रोक लिया. डॉक्टरों की टीम ने पहले सभी का स्वास्थ्य परीक्षण किया, जांच की. सभी को कैंप में बिठाकर खाना खिलाया. गाड़ी का इंतजाम कर सभी को उनके घर पहुंचाया.





chhattisgarh news, cg news, sukma news, covid lockdown, lockdown side effect of laborers, waking towards their home, covid 19 updates, corona virus latest update, छत्तीसगढ़ न्यूज, सुकमा न्यूज, कोरोना वायरल, कोरोना वायरस लेटेस्ट अपडेट, कोविड 19 अपडेट, पैदल चले मजदूर, पैदल घर पहुंचे मजदूर, कोरोना लॉकडाउन
सभी मजदूरों का पहले स्वास्थ्य परीक्षण किया गया.




 तीसरे दिन पहुंचे, रास्ते में नहीं मिला खाना


मजदूरों ने बताया कि वो वेस्ट गोदावरी जिले के अलग- अलग गांव से तीन दिन पहले अपने बच्चों के साथ निकले थे. लॉकडाउन की वजह से परिवहन का कोई साधन नहीं मिला. साथ ही वहां कामकाज भी बंद हो गया, इसलिए वहां से पैदल निकलने का फैसला लिया. तेज धूप के बीच पैदल चलकर कोंटा पहुंचे है. रास्ते में हमे खाना तक नहीं मिला है. पैसा होने के बावजूद लॉकडाउन के कारण सारे होटल बंद थे.




जांच के बाद प्रशासन ने सभी को अपने घर वापस भेजा.




 और भी कई मजदूर फंसे हुए हैं!




मिली जानकारी के मुताबिक जिले के अलग-अलग गांव से मजदूरी करने गए काफी संख्या में मजदूर आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में फंसे हुए हैं. ऐसी खबर आ रही है कि करीब 56 मजदूर कुकुनूर मंडल के दमराचेरला गांव में फंसे हुए हैं. आने का कोई साधन नहीं है. चर्चा करते हुए एसडीएम हिमांचल साहू ने कहा कि काफी संख्या में लोग पैदल चलकर पहुंच रहे हैं. उनका स्वस्थ्य परीक्षण करा कर उनके गांव तक छोड़ने की व्यवस्था की जा रही है.



ये भी पढ़ें: 




पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज