• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • Coronavirus की दहशत के बीच सुकमा में 70 सुअर और मुर्गियों की मौत, बढ़ी लोगों की चिंता!

Coronavirus की दहशत के बीच सुकमा में 70 सुअर और मुर्गियों की मौत, बढ़ी लोगों की चिंता!

कोरोना वायरस या कोविड-19 से फेफड़े प्रभावित होते हैं. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

कोरोना वायरस या कोविड-19 से फेफड़े प्रभावित होते हैं. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

सुकमा (Sukma) जिले के दोरनपाल में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दहशत के बीच बड़ी संख्या में सुअर और मुर्गियों की मौत ने लोगों में खौफ पैदा कर दिया है.

  • Share this:
सुकमा. छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के दोरनपाल में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की दहशत के बीच बड़ी संख्या में सुअर और मुर्गियों की मौत ने लोगों में खौफ पैदा कर दिया है. दोरनपाल में एक सप्ताह के भीतर 60 से 70 सुअर और मुर्गियों की मौत हो गई है. सुकमा नगर पंचायत और पशुधन विभाग द्वारा क्षेत्र में टीकाकरण और दवा छिड़काव का अभियान चलाया जा रहा है. पिछले एक सप्ताह से लगातार हो रही सुअर और मुर्गी की मौतों से लोगों की चिंता बढ़ गई है.

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोरोना जैसे महामारी के बीच सुकमा जिले में पालतू पशुओं के मरने के मामले कुछ दिनों से लगातार आ रहे हैं. इसमें प्रमुख तौर पर दोरनापाल के कई वार्डों में रोजाना आधा दर्जन से ज्यादा सुअरों और मुर्गियों के मरने के मामले आए. इस पर लोगों में बीमारी फैलने का डर लगातार बढ़ता जा रहा है. नगर पंचायत दोरनापाल में नगर पंचायत के वार्ड नंबर 8, 9 व 10 में आए दिन सुअरों के बढ़ती मृत्युदर से नगर प्रशासन की चिंताए बढ़ा रहा हैं. पूरे मामले के प्रकाश में आते ही पशुधन विभाग जिला प्रशासन के निर्देश पर इलाके में मुआयना करने पहुंचे कारणों का पता लगाया साथ ही इलाके में बच्चे शुरू करो का टीकाकरण रिहायशी इलाकों से दूर करने की हिदायत दी गई.

इसलिए बढ़ी परेशानी
पशुधन विभाग के उपसंचालक डॉ. एस जहीरुद्दीन के अनुसार, लगातार हो रही सुअरों की मौत का कारण दूषित पानी है. दूषित पानी के संपर्क में आने से इन सुअरों की मौत हो रही है. अब बताया जा रहा है कि लंबे समय से वैक्सीन नहीं लगाई गई थी. इस वजह से आसानी से इस तरह की बीमारी की चपेट में आ रहे हैं और उनकी मौत हो जा रही है. लगातार हो रही मौतों के बाद कई सवाल पैदा हो रहे हैं, क्योंकि पूरे जिले में एकमात्र डॉक्टर पदस्थ हैं. यहां जिले में कई पशु अस्पताल है, लेकिन वहां डॉक्टर नहीं हैं. साथ ही मवेशियों को आज तक कोई टीका नहीं लगा है. न्यूज़18 से चर्चा करते हुए नगर पंचायत सीएमओ कृष्णा राव ने कहा कि पिछले एक सप्ताह से हर दिन 4 से 5 की संख्या में पालतू पशुओं की मौत हो रही है. नगर में मुनादी कर लोगों को सावधान किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें:
कोरोना की दहशत के बीच कांग्रेस MLA के सामने बच्चों की जान से खिलवाड़

एक विवाह ऐसा भी: परिवार वालों से बचकर थाने पहुंचा कपल, वहीं सजा मंडप, पुलिस वाले बने बाराती

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज