विधानसभा चुनाव में ही बस्तर में BJP का गढ़ खत्म हो गया: कवासी लखमा

लखमा ने कहा कि इस साल बस्तर में बीजेपी का गढ़ खत्म हो गया है. बस्तर में पहले भी कांग्रेस का गढ़ था और आज भी कायम है. उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद 4 महीने में किसानों का कर्जा माफ हुआ है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ में मंगलवार को बस्तर लोकसभा चुनाव के लिए चुनावी शोरगुल थम जाएगा. ऐसे में प्रदेश के मंत्री कवासी लखमा ने प्रचार के अंतिम दिन कई चुनावी सभाएं ली. बता दें कि कोंटा विधानसभा के कोंटा और दोरनापाल में चुनावी सभाएं ली हैं. साथ ही कांग्रेस की जीत का दावा किया. उन्होंने कहा कि बस्तर में कांग्रेस के टक्कर में कोई नहीं है.

लखमा ने कहा कि इस साल बस्तर में बीजेपी का गढ़ खत्म हो गया है. बस्तर में पहले भी कांग्रेस का गढ़ था और आज भी कायम है. उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद 4 महीने में किसानों का कर्जा माफ हुआ है. इसी के साथ कवासी लखमा ने राहुल गांध के प्रधानमंत्री बनने का दावा किया है.

आपको बता दें कि बस्तर लोकसभा सीट की सबसे हाईप्रोफाईल विधानसभा कोंटा से प्रदेश के मंत्री कवासी लखमा विधायक हैं. वैसे तो बस्तर लोकसभा की पूरी जिम्मेदारी मंत्री कवासी लखमा पर ही है, लेकिन कोंटा विधानसभा के स्थानीय विधायक होने के नाते यहां से लीड दिलाने की जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ गई है.



लिहाजा, मंत्री कवासी लखमा बीते दो दिनों से ताबड़तोड़ चुनावी सभा ले रहे हैं. बीते सोमवार को गादीरास और तालनार इलाके में सभा ली थी. वहीं मंगलवार को कोंटा और दोरनापाल में चुनावी सभा ले रहे हैं. साथ ही चुनावी रणनीति को लेकर कार्यकर्ताओं की बैठके भी ले रहे हैं.
ये भी पढ़ें:- बेमेतरा: नवरात्रि में इस भक्त ने जलाई PM मोदी के नाम की ज्योति कलश 

ये भी पढ़ें:- छत्तीसगढ़ में 11 लोकसभा सीटों पर मैदान में हैं 166 उम्मीदवार, बीजेपी-कांग्रेस में सीधा मुकाबला 

ये भी पढ़ें:- बस्तर में 13 लाख 77 हजार से अधिक मतदाता चुनेंगे अपना नेता, बीजेपी-कांग्रेस में सीधा मुकाबला

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज