सुकमा: नक्सलियों की बैठक के बाद एक गांव के 91 आदिवासी कोरोना पॉजिटिव, नक्सल लीडर भी संक्रमित

कोरोना पॉजिटिव नक्सलियों के कारण कई आदिवासी गांवों तक पहुंचा संक्रमण.

Corona in Naxal Area: छत्तीसगढ़ में नक्सलियों की बैठक के चलते जंगलों में मौजूद छोटे-छोटे आदिवासी गांवों में फैला कोरोना संक्रमण. तेलंगाना से आ रहे नक्सलियों के पकड़ में आने के बाद हुआ खुलासा.

  • Share this:
    रिपोर्ट - आदित्य राय

    रायपुर/सुकमा. छत्तीसगढ़ में नक्सलियों की बैठक के चलते जंगलो में मौजूद छोटे छोटे आदिवासी गांवों में कोरोना का संक्रमण फैलने लगा है. पुलिस का दावा है कि सुकमा के आदिवासी गांव कर्मागोंडी में नक्सलियों की मीटिंग के बाद 91 लोग कोरोना संक्रमण की चपेट में आए हैं, जिन्हें इलाज के लिए सरकारी अस्पतालों में भर्ती किया गया है. इस गांव में 21 मई से लेकर 27 मई तक कुल 239 टेस्ट किए गए, जिसमें से 91 लोग पॉजीटिव पए गए हैं. इस गांव से एक महिला को प्रसूति के लिए जिले के सरकारी अस्पताल ले जाया गया था. जब महिला कोविड से संक्रमित मिली और नक्सल प्रभावित गांव में कई लोगों कोविड के लक्षण दिखाई दिए, उसके बाद गांव मे जांच करने स्वास्थ्य अधिकारी गए.

    जब 120 घरों के छोटे से गांव मे 7 दिनों के भीतर 239 टेस्ट किए गए, उसमे से 91 लोग पॉजिटिव पाए गए. बस्तर पुलिस के आईजी सुंदरराज पी ने बताया कि जांच में सामने आया है कि इस गांव से लगे हुए जंगल में नक्सलियों ने कुछ दिनों पहले तेंदूपत्ता को लेकर एक मीटिंग की थी. इसके बाद लोगों में संक्रमण सामने आया. कुकनार के गांव में नक्सली मीटिंग हुई थी, उसके बाद गांव के लोग संक्रमित मिले. 239 टेस्ट हुए जिसमें 90 से ज्यादा लोग संक्रमित मिले.

    कई नक्सलियों की कोरोना से मौत
    पुलिस का दावा है कि छत्तीसगढ़ में नक्सली संगठन में कोरोना फैल चुका है और इसके चलते  अभी तक कई लोगों की मौते हो चुकी है. नक्सलियों के बड़े लीडर जैसे डिविजनल कमेटी मेंबर, नक्सलियों की सेंट्रल रीजनल कमांड और बटालियन में कई नक्सली बीमार हैं. 27 मई को नक्सलियों की बटालियन नंबर 1 में नक्सली लीडर हिड़मा के करीबी और नक्सलियों के टेक्निकल टीम के प्रमुख आयत कोरसा की तेलंगाना के एक अस्पताल में मौत हो गई. इसे छोड़कर वापस लौट रहे 3 नक्सलियों को जब तेलंगाना की भद्रादि कोठेगुडेम पुलिस ने विस्फोटक से भरी कार के साथ सर्चिंग में पकड़ा, तब इसका खुलासा हुआ.

    जिले के एसपी सुनील दत्त ने न्यूज़ 18 को फोन पर बताया कि छत्तीसगढ़  के सुकमा बीजापुर का कोर नक्सल इलाका तेलंगाना से लगा हुआ है. यहां से कई बड़े नक्सली छुपे तौर पर तेलंगाना इलाज के लिए आ रहे हैं. पकड़े गए नक्सलियों से इंट्रोगेशन किया गया तब इसका खुलासा हुआ कि जंगल के अंदर कई नक्सली बीमार हैं.