लाइव टीवी

मौसम की मार से सूरजपुर के किसान परेशान, कर्ज में डूबने की आशंका

BARUN ROY | News18 Chhattisgarh
Updated: October 29, 2019, 1:57 PM IST
मौसम की मार से सूरजपुर के किसान परेशान, कर्ज में डूबने की आशंका
मौसम बारिश ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है. क्योंकि बारिश की वजह से खेतों में पक चुकी धान की फसल खराब होने लगी है.(प्रतीकात्‍मक फोटो)

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के सूरजपुर (Surajpur) जिले में हर साल की तरह इस साल भी किसान (Farmer) मौसम की मार से परेशान हैं.

  • Share this:
सूरजपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के सूरजपुर (Surajpur) जिले में हर साल की तरह इस साल भी किसान (Farmer) मौसम की मार से परेशान हैं. बेमौसम बारिश ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है. क्योंकि बारिश की वजह से खेतों में पक चुकी धान की फसल खराब होने लगी है. किसानों को एक बार फिर कर्ज में डूबने की आशंका है. अक्टूबर में लगातार हुई बारिश (Rain) के चलते किसानों की चिंता बढ़ गई है. किसानों के सामने आर्थिक संकट की स्थिति निर्मित हो रही है.

सूरजपुर (Surajpur) के पंपापुर के किसान राजकुमार और मेघनाथ का कहना है कि इस बार बारिश (Rain) देर से शुरू हुई, उसके चलते फसल लगाने में देरी हुई. इसके बाद अब जब फसल खेतों में पकने के कगार पर है तो बेमौसम बारिश ने परेशानी बढ़ा दी है. धान (Paddy) के खेतों में जल भराव से पके हुए धान खराब होने की कगार पर हैं और धान की बालियां भी खराब हो गई हैं. इससे धान की फसल की लागत भी निकलनी मुश्किल है. इससे क्षेत्र के किसान परेशान हैं.

सीएम ने दिए आंकलन के निर्देश
बता दें कि बेमौसम बारिश के चलते हुए नुकसान को लेकर सरकार ने भी कवायद तेज कर दी है. सीएम भूपेश बघेल ने बारिश के चलते नुक​सान का आंकलन करने के निर्देश दिए हैं. इसके बाद जिला प्रशासन स्तर पर फसलों के नुकसान के आंकलन की प्रक्रिया की जा रही है. बताया जा रहा है फसलों के नुकसान के आंकलन के बाद सरकार स्तर पर कोई ठोस निर्णय लिया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: आज बंद रहेगी सरकारी अस्पतालों की OPD, इमरजेंसी सेवा में करा सकते हैं इलाज 

आतिशबाजी से जहरीली हुई रायपुर की हवा, पेट्रोल का भी स्टॉक खत्म

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सूरजपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 1:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...