महज 4 साल में ही टूट कर गिरने लगी स्कूल की छत, छात्रों में दहशत का माहौल

बाहर से तो स्कूल का रंग-रोगन चमकदार नजर आता है, लेकिन छात्रों और अभिभावकों की मानें तो भवन तैयार होने के 4 साल बाद ही छत टूट कर गिरने लगी थी. वहीं दीवारों पर दरारें आने से बच्चों के लिए स्कूल आना खतरे का सबब बन गया है.

Varun Rai | News18 Chhattisgarh
Updated: January 29, 2019, 3:55 PM IST
महज 4 साल में ही टूट कर गिरने लगी स्कूल की छत, छात्रों में दहशत का माहौल
महज 4 साल में ही टूट कर गिरने लगी स्कूल की छत, छात्रों में दहशत का माहौल
Varun Rai | News18 Chhattisgarh
Updated: January 29, 2019, 3:55 PM IST
छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में शिक्षा व्यवस्था की बदहाली जगजाहिर है. ऐसे में विभाग के दावों की पोल ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूल साफ बयां कर रहे हैं. दरअसल, जिला मुख्यालय से 35 किलोमीटर दूर पोड़ी माध्यमिक स्कूल के कैंपस में ही प्राथमिक और माध्यमिक दोनों स्कूल संचालित हैं. बाहर से तो स्कूल का रंग-रोगन चमकदार नजर आता है, लेकिन स्कूल के अंदर भवन का हाल कुछ और ही बयां करती है. बता दें कि माध्यमिक स्कूल भवन वर्ष 2008 में तैयार किया गया था, लेकिन भ्रष्टाचार का आलम स्कूल भवन की छत और दीवारें बयां कर रही हैं.

छात्रों और अभिभावकों की मानें तो भवन तैयार होने के 4 साल बाद ही भवन की छत टूट कर गिरने लगी थी. वहीं दीवारों पर दरारें आने से बच्चों के लिए स्कूल आना खतरे का सबब बन गया है. हालांकि माध्यमिक स्कूल की कक्षाएं प्राथमिक स्कूल में शिफ्ट कर दी गई है, जहां एक कमरे में ही तीन कक्षाओं की पढ़ाई कराई जा रही है. ऐसे में छात्र भी स्कूल आने से कतराने लगे हैं. 150 की दर्ज संख्या में महज आधे छात्र ही स्कूल आते हैं. वहीं अभिभावक भी विभाग के उच्च अधिकारियों से शिकायत करते-करते थक चुके हैं. वहीं दूसरी तरफ स्कूल के शिक्षक अपना दर्द बयां कर शासन से शिक्षा व्यवस्था दुरुस्त कर स्कूल की मूलभूत आवश्यक्ता को पूरा करने की मांग कर रहे हैं.

बहरहाल, शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने के प्रशासनिक दावे पोड़ी के माध्यमिक स्कूल की बदहाली को साफ बयां कर रही है. ऐसे में प्रदेश की नई सरकार शिक्षा व्यवस्था को लेकर कितनी गंभीर होती है ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा.

ये भी देखें:- VIDEO: अंबिकापुर-बनारस रूट पर नहीं है बस स्टैंड, यात्री हो रहे परेशान

ये भी पढ़ें:- इस नगर पंचायत में नहीं है बस स्टैंड, सड़कों पर खड़े होकर करना पड़ता है इंतजार
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...