सूरजपुर की इस हाईप्रोफाइल सीट पर कांग्रेस को EVM में गड़बड़ी का डर, हो रही निगरानी

कांग्रेस कार्यकर्ता पिछले 15 दिनों से सूरजपुर के पर्री स्थित स्ट्रांग रुम के बाहर भारी ठंड में भी जलावन के साथ रात गुजार रहे है.

BARUN ROY | News18 Chhattisgarh
Updated: December 7, 2018, 4:02 PM IST
सूरजपुर की इस हाईप्रोफाइल सीट पर कांग्रेस को EVM में गड़बड़ी का डर, हो रही निगरानी
विधानसभा चुनाव 2018.
BARUN ROY | News18 Chhattisgarh
Updated: December 7, 2018, 4:02 PM IST
छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में कङकङाती ठंड ने तो दस्तक दे दिया है. लेकिन जिले में चुनावी माहौल की राजनिति ठंडी होते नजर नहीं आ रही. पिछले 15 दिनों से सूरजपुर के पर्री में बने स्ट्रांग रुम के बाहर कांग्रेसियों के पहरे का हौसला बिल्कुल भी ठंडा नहीं पड़ा है. विधानसभा चुनाव 2018 की सरगर्मियां तो पिछले एक साल से शुरु है. ऐसे मे आदर्श आचार सहिंता लगने के बाद से ही दिन रात चलने वाला चुनावी शोरगुल 20 नवंबर को मतदान के साथ ही शांत हो गया. लेकिन कांग्रेस-भाजपा और अन्य दलों के प्रत्याशियों के जीत हार के कयास का दौर चौक चौराहों में शुरु हो गया.

इन सबके बीच कांग्रेस कार्यकर्ता पिछले 15 दिनों से सूरजपुर के पर्री स्थित स्ट्रांग रुम के बाहर भारी ठंड में भी जलावन के साथ रात गुजार रहे है. प्रतापपुर विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. प्रेमसाय सिंह का कहना है कि सूरजपुर में कांग्रेस के ही प्रत्याशियों की जीत तय है. इस कारण भाजपा EVM मशीन में गड़बड़ी कर सकती है,जिसके कारण वे मतगणना के दिन तक पहरे में जुटे रहेंगे.

सूरजपुर जिले के प्रेमनगर और भटगांव सीट में पिछली बार कांग्रेस के विधायक ने जीत हासिल की थी. वहीं प्रतापपुर विधानसभा से प्रदेश के गृहमंत्री रामसेवक पैकरा ने भाजपा से जीत हासिल कर प्रतापपुर सीट को हाई प्रोफाइल बना दिया था. ऐसे में सबकी नजरे भी सूरजपुर जिले के तीनों विधानसभा सीट पर जमी हुई है. लेकिन कांग्रेसियों का भाजपा पर EVM में गड़बड़ी का आरोप लगाकर स्ट्रांग रूम के बाहर पहरा देने के मामले में प्रदेश के गृहमंत्री और प्रतापपुर भाजपा प्रत्याशी रामसेवक पैकरा ने कहा कि कांग्रेस अपनी होने वाली हार से बौखलाए हुए है, जिस कारण भाजपा पर आरोप मढ स्ट्रांग रुम के बाहर पहरा दे रहे है. वही स्ट्रांग रुम की कड़ी सूरक्षा व्यवस्था होने का दावा कर भाजपा की चौथी बार सरकार बनने की बात करते नजर आए.

पिछले पंद्रह दिनों से भले ही चुनावी शोर गुल थम गया है, लेकिन चौक चौराहों पर राजनिति की चर्चाएं गर्म है. ऐसे में भारी ठंड में भी कांग्रेसियों का स्ट्रांग रुम के बाहर पहरा देने का स्टंट 11 दिसंबर को मतगणना के साथ कितना कारगर साबित होती है यह तो देखने वाली बात होगी.

ये भी पढ़ें:
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->
काउंटडाउन
काउंटडाउन 2018 विधानसभा चुनाव के नतीजे
2018 विधानसभा चुनाव के नतीजे