लाइव टीवी

सूरजपुर में हाथियों का तांडव जारी, सप्ताहभर में चार महिलाओं की मौत

Varun Rai | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: April 6, 2017, 5:20 PM IST
सूरजपुर में हाथियों का तांडव जारी, सप्ताहभर में चार महिलाओं की मौत
हाथियों ने महिला को रौंदा

आज तड़के फिर एक अधेड़ महिला को हाथियों ने अपना शिकार बना डाला. दरअसल, कोटेया गांव की 65 वर्षीय रामदेईया महुआ बिनने जंगल गई थी, जहां हाथियों ने उसे बड़ी ही बेदर्दी से कुचल कर मार डाला.

  • Share this:
छ्त्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले स्थित वन क्षेत्र में हाथियों का तांडव लगातार जारी है. बुधवार सुबह फिर एक अधेड़ महिला को हाथियों ने अपना शिकार बना डाला. कोटेया गांव की 65 वर्षीय रामदेईया महुआ बीनने जंगल गई थी, जहां हाथियों ने उसे कुचल कर मार डाला.

इससे पहले बीते मंगलवार भी प्रतापपुर वन क्षेत्र के कोटेया जंगल में महुआ बीनने गई 65 वर्षीय गनपत बाई को हाथियों ने पैरों से रौंदकर मार डाला था. बीतेे 8 दिनों में चार लोगों को हाथियों ने पैरों से कुचल कर मौत के घाट उतार दिया है लेकिन वन विभाग इस संबंध में पूरी तरह उदासीन है.

ग्रामीणों की मानें तो वन विभाग के अधिकारी किसी भी घटना के कई घंटे बीत जाने के बाद मौके पर पहुंचते हैं. ग्रामीणों का कहना है कि महुआ का सीजन है, बावजूद इसके वन विभाग के अधिकारी या कर्मचारी ग्रामीणों को जंगलों में हाथियों के होने की सूचना नहीं देते. यही वजह है कि आए दिन ग्रामीण जंगलों में महुआ लाने तो जाते हैं, लेकिन लौटकर वापस नहीं आ पाते.

इस संदर्भ में बगड़ा वन समिति के अध्यक्ष राम तिवारी ने कहा कि उन्होंने वन विभाग के एक कर्मचारी को फोन भी लगाया था, लेकिन उसने फोन नहीं उठाया. ऐसे में हाथियों के उत्पात से जहां पूरे प्रतापपुर क्षेत्र के लोग दहशत में हैं, वहीं वन विभाग के सुस्त रवैये से क्षेत्रवासियों में खासा आक्रोश भी व्याप्त है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सूरजपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 6, 2017, 12:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर