अतिक्रमण के कारण सिमट रहा प्रतापपुर परिक्षेत्र का जंगल, वन विभाग उदासीन

बंशीपुर सोनगरा क्षेत्र में किसी समय में घनघोर वन हुआ करता था, वहीं आज अवैध अतिक्रमण के कारण जंगल सिमटता जा रहा है.

Varun Rai | News18 Chhattisgarh
Updated: January 9, 2019, 11:52 PM IST
अतिक्रमण के कारण सिमट रहा प्रतापपुर परिक्षेत्र का जंगल, वन विभाग उदासीन
सिमट रहे प्रतापपुर वन परिक्षेत्र के जंगल को लेकर रेंजर ने जताई चिंता
Varun Rai | News18 Chhattisgarh
Updated: January 9, 2019, 11:52 PM IST
छत्तीसगढ़ में सूरजपुर जिले के प्रतापपुर वन परिक्षेत्र के बंशीपुर सोनगरा जंगल में हाथियों का बसेरा बना हुआ है, लेकिन पिछले 4-5 वर्षों से हाथियों का गांव का रुख करना और आए दिन जानमाल के नुकसान होने की खबरें आम बात हो चुकी है.

एक ओर ग्रामीण हाथियों को दोष देते नजर आते हैं, वहीं दूसरी तरफ वनों की अवैध कटाई और जंगल में हो रहे अतिक्रमण पर किसी का ध्यान नहीं जा रहा है. बता दें कि बंशीपुर सोनगरा जंगल किसी समय में घनघोर वन हुआ करता था. वहीं आज अवैध अतिक्रमण के कारण जंगल सिमटता जा रहा है. जंगल में अवैध अतिक्रमण कोई और नहीं बल्कि जंगल से सटे गांव के लोग ही कर रहे हैं. वहीं मामले में जानकारी होने के बाद भी वन विभाग के पास समय नहीं है कि वो कार्रवाई करे.

दूसरी तरफ वन विभाग द्वारा वन सुरक्षा समिति तो बनाई जाती है, लेकिन उनका भी कोई अता पता नहीं होता. ऐसे में आने वाले समय में जहां एक ओर वनों के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है, वहीं हाथी और अन्य जंगली जानवरों को भोजन-पानी की तलाश में मजबूरन गांव की तरफ रुख करना पड़ेगा. इसके बाद शायद इंसान और जानवरों के द्वंद्व की रोकथाम के लिए शासन-प्रशासन के पास कोई उपाय नहीं होगा.

वहीं पूरे मामले में क्षेत्र के डिप्टी रेंजर पीएल तिवारी ने एक ओर सिमटते जंगल को लेकर चिंता जाहिर की है, तो वहीं अपने क्षेत्र में अवैध कटाई और अतिक्रमण से इनकार करते नजर आए.

ये भी पढ़ें:- दर्दनाक हादसा: यात्रियों से भरी बस पेड़ से टकराई , एक की मौत, कई घायल

ये भी पढ़ें:- छत्तीसगढ़ के कई इलाकों में हाथियों का आतंक, दहशत में ग्रामीण
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...