लाइव टीवी

यहां पहुंच विहिनता का दंश झेल रहे दर्जनों गांव, बच्चों की छूटी पढ़ाई

BARUN ROY | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: July 15, 2017, 2:26 PM IST
यहां पहुंच विहिनता का दंश झेल रहे दर्जनों गांव, बच्चों की छूटी पढ़ाई
छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में पड़ने वाले दर्जनों दूरस्थ ग्राम पिछले एक साल से पहुंच विहिनता का दंश झेल रहे हैं.

छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में पड़ने वाले दर्जनों दूरस्थ ग्राम पिछले एक साल से पहुंच विहिनता का दंश झेल रहे हैं.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में पड़ने वाले दर्जनों दूरस्थ ग्राम पिछले एक साल से पहुंच विहिनता का दंश झेल रहे हैं.

दरअसल, ओडगी ब्लॉक में पिछले साल आई तेज बारिश ने करोड़ों की लागत से बने कुप्पा पुल को ध्वस्त कर दिया था. इसके बाद से कुप्पा, लांजित गांव समेत दर्जनों गांव का ब्लॉक मुख्यालय से संपर्क टूट गया.

इससे अब गांव के ग्रामीण और स्कूली बच्चों को नदी के तेज बहाव में जान जोखिम में डालकर ब्लॉक मुख्यालय आना पड़ रहा है.

रोजाना सैकड़ों लोग अपनी जान जोखिम में डालकर महान नदी को पार कर अपने गंतव्यों तक पहुंच रहे हैं. इस बारे में ग्रामीणों ने कहा कि एक साल पहले करीब ढाई करोड़ की लागत से यह पुल बनकर तैयार हुआ था, जो तेज बारिश की भेंट चढ़ गया.

इसके बाद ब्लॉक मुख्यालय से 11 ग्राम पंचायतों के करीब 20 हजार लोगों का संपर्क टूट गया. शासन ने वैकल्पिक व्यवस्था के तहत इस नदी पर नाव मुहैया कराई थी, तब से यह लोगों के आने जाने का एक मात्र माध्यम बन गया है.

इस दौरान कई बार नाव दुर्घटनाग्रस्त भी हुआ, लेकिन सभी बाल-बाल बच गए. ग्रामीणों का कहना है कि गांव में अगर कोई बीमार पड़ जाए तो उसे अस्पताल ले जाने में काफी परेशानी होती है. इसके अलावा बच्चों की पढ़ाई में भी बाधा उत्पन्न होती है.

वहीं ग्रामीणों की समस्या और पुल निर्माण को लेकर पिछले एक साल से किसी भी जनप्रतिनिधियों और शासन के अधिकारियों के पास समय ही नहीं मिला.जान का खतरा होने के कारण कुप्पा गांव समेत दर्जनों गांव के सैकड़ों छात्रों ने पढ़ाई ही छोड़ दी है. ओडगी ब्लॉक के सीईओ ने बताया कि गर्मी के दिनों के लिए वैकल्पिक पुल तैयार किया गया था, लेकिन बारिश के शुरुआत मे पुल हटा दिया गया.

ऐसे में एक साल में नदी में फिर पुल के निर्माण के लिए कोई पहल ना करना शासन-प्रशासन की कार्यशैली पर कई बड़े सवाल खड़े करती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सूरजपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 15, 2017, 2:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर