लोकसभा चुनाव: नाराजगी के बावजूद क्या फिर चल पाएगा 'सरगुजिहा सरकार' का जादू?

सरगुजा संभाग में सरगुजिहा सरकार का जादू ऐसा चला कि संभाग की सभी 14 विधानसभा सीट कांग्रेस ने जीत ली. लेकिन वही जादू का जख्म लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए नासूर बन सकता है.

Amitesh Pandey | News18 Chhattisgarh
Updated: April 6, 2019, 12:01 PM IST
लोकसभा चुनाव: नाराजगी के बावजूद क्या फिर चल पाएगा 'सरगुजिहा सरकार' का जादू?
टीएस सिंहदेव (फाइल फोटो)
Amitesh Pandey
Amitesh Pandey | News18 Chhattisgarh
Updated: April 6, 2019, 12:01 PM IST
छत्तीसगढ़ में मिले प्रचंड बहुमत के बलबूते कांग्रेस ने दमखम के साथ सरकार तो बना ली. लेकिन सरगुजा के लोगों ने 14 की 14 सीट जीताकर सरगुजिहा सरकार के हीरो रहे अम्बिकापुर विधायक टीएस सिंहदे के मुख्यमंत्री बनने का सपना देखा था. लेकिन कांग्रेस के अंदरूनी दांव पेंच के काऱण टीएस बाबा मुख्यमंत्री नहीं बन पाए. उन्हें स्वास्थ्य मंत्री बना कर खुश करने की कोशिश हुई. शायद यही वजह है कि अब लोकसभा चुनाव में विपक्ष के प्रचारक जब-जब सरगुजा आ रहे हैं तब-तब टीएस बाबा की दुखती नस को छूकर पुराने जख्मों को उकेर रहे हैं.

ऐसा ही एक वाक्या बीते गुरुवार को देखना मिला जब पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह अपने सासंद प्रत्याशी रेणुका सिंह के पक्ष में चुनावी फिजा बनाने सरगुजा आए थे. दरअसल, प्रचार के दौरान पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह ने कहा कि आप लोग का राजा बेचारा बंद गला का नया चार पांच कोट सिलवाया था. तो काहे सिलाया था. तो पता चला कि मुख्यमंत्री की शपथ लेना है. पूरा सरगुजा के गांव- गांव में बच्चा बोल रहा था मुख्यमंत्री आने वाला है. लेकिन मुख्यमंत्री सरगुजा ही आना छोड़ दिया.

डॉ. रमन सिंह ही एक इकलौते शख्स नहीं है जिन्होंने टीएस बाबा के सीएम ना बन पाने पर अपने ढंग से चुटकियां ली हैं. इससे पहले 12 मार्च को अम्बिकापुर में अपने कार्यकर्ताओं की बैठक लेने पहुंचे जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के नेता अमित जोगी ने भी इस बात का राजनीतिक तौर पर मजाक बनाया था.
अमित जोगी ने कहा था कि कांग्रेस ने सरगुजा की जतना के साथ छलावा करके सरगुजा की 14 सीटें जीती हैं. क्योंकि उन्होंने टेलर दिखाया गया कि ये पिक्चर जो आने वाली है, उसमें अमिताभ बच्चन होंगे. लेकिन जब पिक्चर आई तो उसमें अमरीश पुरी निकले. मतलब अमित जोगी के मुताबिक, टीएस बाबा को मुख्यमंत्री बता कर भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री बना दिया गया.

ऐसा नहीं है भाजपा नेताओं के साथ जनता कांग्रेस के नेता बेवजह ही इस बात का प्रचार कर रहे हैं कि टीएस बाबा के साथ गलत हुआ. असल में टीएस सिंहदेव की व्यक्तिगत पृष्टभूमि और मुलायम स्वाभाव के काऱण उन्होंने सरगुजा के साथ पड़ोसी संभाग में भी अपना जलवा बिखेरा और कांग्रेस की बड़ी जीत के नायक रहे. इस जीत के बाद जब कांग्रेस आलाकमान ने उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया था. तो उनका दर्द उन्हीं की जुबान छलका भी था. वो दर्द शायद आज भी है. टीएस सिंहदेव ने मीडिया से करते हुए कहा भी था कि क्षेत्र की जनता उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहती थी. और हो सकता है भविष्य में उनकी पवित्र भावना उनकी मंशा पूरी कर दे.

ये बात किसी से छुपी नहीं है कि कांग्रेस के प्रत्याशी और नेताओं ने टीएस बाबा के मुख्यमंत्री बनने की बात को लेकर मतदाताओं से कांग्रेस को वोट करने की अपील भी की थी. लोगों ने भी अपने क्षेत्र के मुख्यमंत्री बनने से विकास के कई सपने देख लिए थे. लेकिन विधानसभा की इस घटना को ज्यादा वक्त गुजरा नहीं है. ऐसे में आम मतदाताओं के साथ वोटरों का वो तबका जो व्यक्ति देखकर वोट करता है, वो कांग्रेस के लिए घातक साबित हो सकता है.

ये भी पढ़ें:

नान घोटाले में आरोपी रेखा नायर की नियुक्ति पर उठे सवाल, EOW करेगी सर्विस बुक की जांच
Loading...

लोकसभा चुनाव 2019: ...तो क्या इस वजह से रिटायर्ड अफसरों का राजनीति से हो रहा 'मोहभंग'? 

लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस का बड़ा आरोप, भाजपा के पास नहीं है प्रचार के लिए संसाधन

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स     

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सरगुजा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 6, 2019, 11:32 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...