होम /न्यूज /chhattisgarhi /छत्तीसगढ़ी म पढ़व- छत्तीसगढ़ आगु रहिस जगत सिरमौर

छत्तीसगढ़ी म पढ़व- छत्तीसगढ़ आगु रहिस जगत सिरमौर

.

.

दुनिया भर के उठा पटक करे के बाद अंग्रेज मन के शोषण नीति ह भारत के एकता के आघु म घोरमुहा हो गे. एकर बाद तो अंग्रेज मन कं ...अधिक पढ़ें

छत्तीसगढ़ म कतनो राजवंश, नलवंशी, पांडुवंशी, सोमवंशी, कलचुरी राजवंशी, नागवंशी, छिन्दक नागवंशी, गोड़, मराठा अऊ अंग्रेज मन, मन भर के राज करिन. फेर छत्तीसगढ़ म रतनपुरी राजा मन के शासन काल ल सुख समृद्धि अउ उन्नति के दिन बादर माने जा सकत हे. डॉ. महेंद्र कश्यप राही के मुताबिक तो

रतन देव के हाथ के दीया ह
बिना आगी बर जाये,
उही रतनपुर भीख म भइया
हीरा मोती बांटय.

स्व. शुकलाल पांडे के आंखी के देखल आय ग-

नाप-नाप काठा म रुपिया,
बेहर देत रहिन गौटिया.
कभू नही स्टाम्प लिखाइन
रिहिन गवाही अउ ये हमर देश
छत्तीसगढ़ आगु रहिस जगत सिरमौर.

अइसन छत्तीसगढ़ म राज करइया राजा मन बिक्कट शोषण करिन . चूहक के फोकला कर दिन.
इन तो पहिलिच्च ले छत्तीसगढ़िया मन सीधवा सबले बढ़िहा हे कहि के हमर खून ल जूड़ा देथे ताहन उन मूड़ी म राज करथे . तहू मन ल कुछ नइ काहन सकन. सियान मन बताथे – पहिली जमाना म संसार भर के सोना भारत म जमा होवत रिहिस. तभे तो भारत ल सोन चिरईया काहत रिहिन. बाद म इंग्लैंड म जमा होय ल धर लिस. अंग्रेजी पूंजीवादी नीति के सेती भारत के गरीब किसान थर्रा गे ग. छत्तीसगढ़या किसान तो ए दाई वो कहि के मुड़ी ल धर के बइठ गे. स्व. कुंज बिहारी चौबे ह इसी बात ल उजागर करथे-

अजी अंग्रेज तैंहर हमला बनाए कंगला.
सात समुद्दर बिलाएत ले आ के हमला बना दे भिखारी जी.
हमला बनाए बेंदरा बरोबर बन गए तैं मदारी जी. चीथ-चीथ के तैं हमर चेथी के मास ला,
अपन बर टेकाए बंगला.

दुनिया भर के उठा पटक करे के बाद अंग्रेज मन के शोषण नीति ह भारत के एकता के आघु म घोरमुहा हो गे. एकर बाद तो अंग्रेज मन कंझा के देश के नाजुक नस ल बइद बरोबर टमरिन. टमरत-टमरत टमर डरिन जी. ओ नस रिहिस धरम के. बेईमान मन भाई ल भाई के विरोध म खड़ा कर के थपरी बजाए बर धर लिन ताहन तो फेर इन मन फूट डालो अऊ राज करो के महामंत्र ले बिक्कट के फायदा उचइन. धीरे-धीरे फैसन कस बगर गे एकर प्रदूषण ह. जेकर प्रभाव ल आजो देखे जा सकत हे.

(दुर्गा प्रसाद पारकर छत्तीसगढ़ी के जानकार हैं, आलेख में लिखे विचार उनके निजी हैं.)

Tags: Articles in Chhattisgarhi, Chhattisgarhi

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें