छत्‍तीसगढ़ी में पढ़ें: माई भाखा मा सरलता अउ तरलता

एकरे सेती सरलता अउ तरलता बर अपन भाखा मा विचार करना अउ परोसना आज के मांग हे.
एकरे सेती सरलता अउ तरलता बर अपन भाखा मा विचार करना अउ परोसना आज के मांग हे.

माई भाखा हा हमर संस्कृति अउ संस्कार मा रचे बसे रइथे. कोनो प्रांत के भाखा होवय ओखर विकास बर घर परिवार ले लेके समाज में योगदान होथे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2020, 3:27 PM IST
  • Share this:
क घर मा आठ साल के पढ़इया लइका के बुद्धि के मूल्यांकन होवत हे. इसकुल अंग्रेजी माध्यम , माँ - पिताजी उच्च शिक्षित अउ संपन्न त घर मा हिन्दी के माहौल. अब हुइस ये कि करोना काल मा पहुना सगा गर्मी छुट्टी मनाए बर आइन. लोग , लइका , सियान सब्बो जुरियाइन. पहुना सगा लइका मन तको अपन गांव डाहर के अंग्रेजी माध्यम के इस्कूल मा पढ़थें. उनखर परिवार गांव मा रइथे. उनखर भाषा मा छत्तीसगढ़ी के प्रभाव. अब सरलता अउ तरलता एक दूसर ला कइसे प्रभावित करथें एला विचार मा लाने जाए.

बालपन मा खेलई -कूदई  के जादा मौका मिलिस अपन - अपन ले नवा -नवा किसिम के खेल उद्‌गारे गिस अउ खेल शुरू होगे. ए मेरन एक बात ला समझना हे के भाषा अउ  केवल भाषा छत्तीसगढ़ी के भरपूर प्रयोग हुइस . सब्बो लइका अपन माई भाखा मा अतेक निपुन दिखिन के का पूछबे मन गदगद होगे. भाषा के सरलता के सरलग विकास माई भाखा मा दिखथे. अतका जल्दी अउ सुन्दर ढंग ले अपन माई भाखा मा मनखे अपन विचार प्रकट करथे के ओला पता नइ चलय अउ काम बन जाथे.

केहे के मतलब साफ हे के माई भाखा हा हमर संस्कृति अउ संस्कार मा रचे बसे रइथे. कोनो प्रांत के भाखा होवय ओखर विकास बर घर परिवार ले लेके समाज में योगदान होथे. नानकुन आठ साल के लइका उहू हमर छतीसगढ़ के तऊन हा तीन भाषा मा अपन विचार प्रकट कर सकत हे त भाषा के समस्या इहां कहां हे. समस्या हे त केवल प्रयोग मा. प्रयोग करइया मन अपन विचार ला अपन भाखा मा अच्छा से परोस सकत हे लेकिन संकीर्णता उनखर मन के विचार ला आगू नइ आवन देंवय. एकरे सेती सरलता अउ तरलता बरअपन भाखा मा विचार करना अउ परोसना आज के मांग हे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज