• Home
  • »
  • News
  • »
  • city-khabrain
  • »
  • अफजल की फांसी के दूसरे दिन भी दिल्ली में हाई अलर्ट

अफजल की फांसी के दूसरे दिन भी दिल्ली में हाई अलर्ट

संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी पर लटकाए जाने के दूसरे दिन रविवार को भी दिल्ली में पूरी सतर्कता बरती जा रही है।

संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी पर लटकाए जाने के दूसरे दिन रविवार को भी दिल्ली में पूरी सतर्कता बरती जा रही है।

संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी पर लटकाए जाने के दूसरे दिन रविवार को भी दिल्ली में पूरी सतर्कता बरती जा रही है।

  • Share this:
    नई दिल्ली। संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी पर लटकाए जाने के दूसरे दिन रविवार को भी दिल्ली में पूरी सतर्कता बरती जा रही है, जबकि दिल्ली विश्वविद्यालय के प्राध्यापक एस ए आर गिलानी ने कहा है कि उन्हें घर के अंदर रहने की सलाह दी गई है।

    दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दिल्ली में लगातार सतर्कता बरती जा रही है और त्वरित प्रतिक्रिया दलों को किसी भी अप्रिय घटना या प्रदर्शन से निपटने के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है। गिलानी ने कहा कि यह सतर्कता अगले दो-तीन दिनों तक जारी रहेगी, जो शहर के हालात पर निर्भर करेगी।

    दिल्ली विश्वविद्यालय के जाकिर हुसैन कॉलेज में अध्यापक गिलानी को दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा ने शनिवार को कथिततौर पर हिरासत में ले लिया था। कश्मीर के कुछ अन्य नेताओं को भी हिरासत में लिया गया था। गिलानी को 13 दिसंबर, 2001 को हुए संसद हमले में संलिप्तता के लिए दिसंबर 2001 में गिरफ्तार किया गया था। लेकिन सर्वोच्च न्यायालय ने उन्हें 2003 में मामले से बरी कर दिया था।

    गिलानी ने कहा कि वे पुलिस नहीं चाहते थे कि मैं मीडिया से बात करूं, इसलिए उन्होंने मुझे हिरासत में ले लिया था। वे मुझे न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी स्थित विशेष शाखा के कार्यालय ले गए। लेकिन दिल्ली पुलिस ने कहा है कि उसने गिलानी को हिरासत में नहीं लिया। पुलिस सूत्रों ने हालांकि स्वीकार किया है कि एहतियातन कुछ लोगों पर नजर रखी जा रही है।

    गिलानी ने कहा कि उन्हें शनिवार रात 10 बजे छोड़ा गया और कहा गया कि घर के बाहर न निकलूं। गिलानी ने कहा कि आज भी मुझसे कहा गया है कि मैं घर के बाहर न निकलूं। यह नजरबंद जैसी स्थिति है। पुलिस ने हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारुख और पत्रकार इफ्तिखार गिलानी को भी दिल्ली में हिरासत में ले लिया था।

    इफ्तिखार गिलानी को शनिवार अपराह्न् उस समय छोड़ दिया गया, जब मीडियाकर्मी वहां पहुंच गए और उन्होंने उनकी हिरासत का विरोध किया। अफजल गुरु को 2001 के संसद हमले में दोषी पाया गया था और उसे शनिवार को तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई। उसे जेल परिसर में ही दफना दिया गया। उसके परिवार ने धार्मिक परंपरा के अनुरूप उसका अंतिम संस्कार करने के लिए जेल प्रशासन से अनुमति मांगी है।

    जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स यूनियन (डीएसयू) ने शनिवार को विरोध प्रदर्शन अयोजित किया था, लेकिन रविवार को इस संगठन को किसी विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी गई।


    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज