• Home
  • »
  • News
  • »
  • city-khabrain
  • »
  • सुरक्षा को लेकर गोविंदाओं में नजर आई फिक्र

सुरक्षा को लेकर गोविंदाओं में नजर आई फिक्र

जनमाष्टमी पर दही हांडी की धूम है, लेकिन इस बार एतहियात भी बरते जा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश का असर गोविंदाओं की मंडली पर साफ-साफ नजर आ रहा है।

  • Share this:
    मुंबई। जनमाष्टमी पर दही हांडी की धूम है, लेकिन इस बार एतहियात भी बरते जा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश का असर गोविंदाओं की मंडली पर साफ-साफ नजर आ रहा है। लाखों की इनामी मटकी फोड़ने के चक्कर में जान माल का नुकसान न हो, इस पर तो नजर है ही, साथ ही उत्सव के दौरान कोई हादसा या दुर्घटना न हो, इसके लिए सुरक्षा के भी चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं।
    दादर हो या वर्ली, जोगेश्वरी हो या अंधेरी। हर तरफ एक जैसा उत्साह, एक जैसी भीड़ और एक जैसी गोविंदाओं की मंडली। लेकिन बीते साल की तुलना में इस बार जो फर्क नजर आ रहा है वो है सुरक्षा को लेकर ज्यादा फिक्र। गोविंदाओं की पिरामिड में जो बच्चा चोटी पर दिखता है, पिरामिड टूटने पर वो जमीन पर ना गिरे, इसके इंतजाम किए गए हैं। गिरने या चोट लगने पर सिर को नुकसान न पहुंचे, इसके लिए हेलमेट तक नजर आने लगे हैं।
    शायद यही वजह है कि इस बार मटकी फोड़ने की प्रतियोगिता के दौरान घायल होने वाले गोविंदाओं की संख्या में कमी देखी जा रही है। सोमवार दोपहर तक केवल 20 गोविंदा घायल हुए। इनमें से 12 को केईएम, 3 को सायन, एक को नायर और 4 को अन्य अस्पतालों में भर्ती किया गया है।
    इलाज के लिए भर्ती कराया गया। असल में, दही हांडी प्रतियोगिता पर रोक की मांग उठने के बाद इस तरफ खासा ध्यान दिया जा रहा है। इस मामले पर बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने 18 साल से कम उम्र के लड़कों के हिस्सा लेने पर रोक लगा दी। हालांकि बाद में ये मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। सुप्रीम कोर्ट ने हिस्सा लेने वालों की उम्र 12 साल तक कर दी।
    सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद आयोजकों ने राहत की सांसें ली। यही वजह है कि इस बार गोविंदाओं की टोली में 12 साल से कम उम्र के बच्चे नजर नहीं आ रहे। इस बार मटका फोड़ने के लिए जो तरीके अपनाए जा रहे हैं वो वैज्ञानिक और पहले से ज्यादा सुरक्षित हैं। इसके लिए मुफ्त में ट्रेनिंग तक दी गई।
    जन्माष्टमी की धूम तो पूरे देश में है। लेकिन महाराष्ट्र में दही-हांडी प्रतियोगिता की वजह से ज्यादा ही जोश नजर आ रहा है। ऐसे में, महाराष्ट्र में सुरक्षा के जबरदस्त इंतजाम किए गए हैं। खासकर मुंबई और इसके आसपास के इलाकों में। महाराष्ट्र में दही हांडी प्रतियोगिता के दौरान 30 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया। सभी पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं। होमगार्ड और स्टेट रिजर्व पुलिस फोर्स की चार बटालियन को भी तैनात किया गया है। सुरक्षा के तमाम इंतजामात ने लोगों के उत्साह में इजाफा ही किया है। उम्मीद की जानी चाहिए कि गोविंदाओं की टोलियां हर बार इसी तरह रंग जमाने में कामयाब होती रहेंगी।



    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज