• Home
  • »
  • News
  • »
  • city-khabrain
  • »
  • मासूम बच्ची पूछ रही, मुझे क्यों छोड़ा मां?

मासूम बच्ची पूछ रही, मुझे क्यों छोड़ा मां?

कृष्ण की नगरी वृंदावन में एक मां अपनी एक दिन की नवजात बच्ची को मंदिर के बाहर छोड़ गई। एक दिन की वो मासूम मंदिर के जूता स्टैंड पर पड़ी थी।

  • Share this:
    मथुरा। कृष्ण की नगरी वृंदावन में एक मां अपनी एक दिन की नवजात बच्ची को मंदिर के बाहर छोड़ गई। एक दिन की वो मासूम मंदिर के जूता स्टैंड पर पड़ी थी। वहीं दिल्ली से आई एक महिला ने बच्ची को देखा और उसे पुलिस के पास ले गई। वो मासूम अब बाल गृह की देखरेख में है। बालगृह के मुताबिक 60 दिनों तक बच्ची के मां-बाप का इंतजार किया जाएगा। और तब तक कोई उसे लेने नहीं आया तो उसे दूसरे को गोद दिया जाएगा।

    मैं प्रेमा हूं, सिर्फ एक दिन पहले मैंने अपनी आंखें खोली हैं। उसके कुछ ही घंटों बाद मैं एक मंदिर के बाहर जूते-चप्पलों के बीच पड़ी थी। मेरी मां मुझे मंदिर के बाहर छोड़कर चली गई। शायद बेटी होने की वजह से मेरे साथ ऐसा सलूक किया गया। लेकिन मेरी आंखें अब भी मां को तलाश रही हैं ताकि मैं उससे पूछ सकूं, मुझे क्यों छोड़ दिया मां-मुझे क्यों छोड़ दिया मां।
    महज एक दिन की ये मासूम अगर बोल पाती तो ये सवाल जरूर पूछती। लेकिन अभी तो ये भी नहीं जानती कि इसके साथ क्या हुआ है। सिर्फ एक दिन की मासूम प्रेमा वृंदावन के प्रेमा मंदिर के बाहर जूते-चप्पलों के बीच पड़ी थी। शायद बच्ची की मां इसे जूता स्टैंड पर छोड़कर चली गई थी।
    इस बच्ची के साथ और भी बुरा हो सकता था, लेकिन भगवान कृष्ण के इस मंदिर के बाहर मासूम प्रेमा को एक मां का सहारा मिल गया। दिल्ली से दर्शन करने प्रेम मंदिर आई विभा की नजरें जब इस मासूम पर पड़ी तो इनकी ममता जाग उठी। इन्होंने बच्ची को गोद में उठाया और अपने साथ लेकर पहुंच गईं पुलिस स्टेशन। इस मासूम के असली मां-बाप ने भले ही इसे बेसहारा छोड़ दिया हो लेकिन विभा अब इसे अपनाने के लिए तैयार हैं।
    पुलिस ने बच्ची को बाल कल्याण समिति को सौंप दिया है। समिति ने नवजात को बाल शिशु गृह के पास भेज दिया। बाल कल्याण समिति का कहना है कि बच्ची की गुमशुदगी का इश्तेहार दिया जाएगा और 60 दिनों तक उसके मां-बाप का इंतजार किया जाएगा।
    प्रेमा की कहानी सामने आते ही इस मासूम की मदद के लिए कई हाथ आगे आए हैं। जानी-मानी हस्तियों ने बेटियों के साथ हो रहे ऐसे सलूक पर चिंता जताई है। दीपिका पादुकोण ने कहा कि आप जो बच्ची के बारे में बात कर रहे हैं। उसको छोड़ दिया गया है। ये दुखद है। अगर मैं काम करने वाली महिला नहीं होती तो मैं उसे एडॉप्ट कर लेती।
    वहीं, जावेद अख्तर ने कहा कि ये नया नहीं है कि किसी लड़की को मंदिर के बाहर छोड़ दिया गया। कोई भी इस तरह की घटनाओं पर गंभीरता से नहीं सोचता। उधर, मथुरा से सांसद हेमा मालिनी ने भी इस बच्ची से मुलाकात की और कहा कि वो इस बच्ची का मामला संसद में उठाएंगी।
    मासूम प्रेमा की देखरेख में लगे बालगृह के मुताबिक बच्ची की हालत ठीक है। उम्मीद है कि प्रेमा की खबर सुनकर उसके मां-बाप उसे लेने के लिए आ जाएं। उम्मीद है कि इन तस्वीरों को देखकर उन्हें अपनी गलती का एहसास हो और इस मासूम को उसका परिवार मिल जाए।



    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज