Home /News /city-khabrain /

दिल्ली और मथुरा में सिरफिरे लोगों का सोशल मीडिया पर आतंक, फेसबुक से करते थे ब्लैकमेल

दिल्ली और मथुरा में सिरफिरे लोगों का सोशल मीडिया पर आतंक, फेसबुक से करते थे ब्लैकमेल

आजकल सोशल नेटवर्किंग साइट्स लोगों को बदनाम करने का सबसे आसान जरिया बन गई है। ताजा मामला दो जगहों से आया है दिल्ली और मथुरा।

आजकल सोशल नेटवर्किंग साइट्स लोगों को बदनाम करने का सबसे आसान जरिया बन गई है। ताजा मामला दो जगहों से आया है दिल्ली और मथुरा।

आजकल सोशल नेटवर्किंग साइट्स लोगों को बदनाम करने का सबसे आसान जरिया बन गई है। ताजा मामला दो जगहों से आया है दिल्ली और मथुरा।

    नई दिल्ली। आजकल सोशल नेटवर्किंग साइट्स लोगों को बदनाम करने का सबसे आसान जरिया बन गई है। ताजा मामला दो जगहों से आया है दिल्ली और मथुरा। दोनों जगहों पर सिरफिरे सीधी-सादी लड़कियों के अश्लील फोटो और निजी जानकारियों को हथियार बनाकर उन्हें ब्लैकमेल करने का काम कर रहे थे।

    मासूम से दिखने वाला ये शख्स दरअसल एक ब्लैकमेलर है जो फेसबुक पर लड़कियों की फर्जी आईडी बनाकर भोली भाली लड़कियों को चैट के जाल में फंसाता था।  फिर उनका भरोसा जीतकर उनकी निजी जानकारियां हासिल करता था और फिर शुरू करता था अपना असली खेल यानि ब्लैकमेलिंग। पुलिस को इसके मोबाइल में 100 से ज्यादा लड़कियों के नंबर मिले हैं। अब तक यह 10 लड़कियों को ब्लैकमेल कर चुका है।

    अखिलेश दिल्ली के बक्करवाला इलाके का रहने वाला है। वो अपने ब्लैकमेलिंग के काम को पुख्ता बनाने के लिए लड़कियों की फ़र्ज़ी आईडी बनाते समय किसी न किसी लड़की का असली नाम, नंबर और फोटो इस्तेमाल करता था। लड़कियां उसे लड़की समझकर बात करती थीं और कुछ निजी बातें भी शेयर कर लेती थीं। बस यहीं से अखिलेश उन्हें ब्लैकमेल करना शुरू कर देता था।

    सोशल नेटवर्किंग साइट्स के जाल में उलझा दूसरा मामला है उत्तर प्रदेश के शहर मथुरा का। यहां एक सिरफिरे ने शहर के कई परिवारों की औरतों के चेहरों को अश्लील फोटोज के साथ जोड़कर वॉट्सऐप और फेसबुक पर डाल दिया। ये तस्वीरें ऐसी वायरल हुईं कि शरीफ घर की औरतों को जीना मुश्किल हो गया। इस सिरफिरे की वजह से कई लड़कियों का घर से बाहर निकलना भी दुश्वार हो गया है और कई लड़कियों ने तो आत्महत्या तक का मन बना लिया है।

    करीब 1 साल पहले ही पीड़ित लोगों ने पुलिस में इसकी शिकायत की थी। लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसी वजह से शरारती तत्वों के हौसले बुलंद हो गए और वे लगातार सोशल मीडिया के जरिए कई परिवारों की लड़कियों और महिलाओं को बदनाम करते रहे। एक साल तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं करने वाली मथुरा पुलिस से जब सवाल किया गया तो वह अब इस मामले में जांच कर जल्द आरोपी को गिरफ्तारी करने की बात कह रही है।

    ये दोनों खबरें इस बात की ताकीद करती हैं कि सोशल नेटवर्किंग साइट्स से जुड़िए लेकिन सावधानी से। क्योंकि आपके हर एक मूव पर ऐसे अपराधी अपनी नजरें गड़ाए बैठे हैं जो सिर्फ और सिर्फ किसी वारदात को अंदाज देने की फिराक में रहते हैं।

    Tags: Blackmail, Delhi, Facebook, Police, Social media, मथुरा

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर