Home /News /city-khabrain /

मिस कॉल के जरिए पूर्व एयरहोस्टेस ने किया व्यापारी का अपहरण!

मिस कॉल के जरिए पूर्व एयरहोस्टेस ने किया व्यापारी का अपहरण!

पुलिस के फंदे में मुंह छुपाए खड़ी ममता मसीन एक जमाने में पेशे से एयरहोस्टेस हुआ करती थी। लेकिन जल्दी ही करोड़पति बनने की चाहत में सलाखों के पीछे पहुंच गई।

    संजीव शर्मा

    देहरादून। पुलिस के फंदे में मुंह छुपाए खड़ी ममता मसीन एक जमाने में पेशे से एयरहोस्टेस हुआ करती थी। लेकिन जल्दी ही करोड़पति बनने की चाहत में सलाखों के पीछे पहुंच गई। दरअसल जल्दी अमीर बनने की चाहत में इसने रची थी सेक्स और धोखे की खौफनाक साजिश। इसका शिकार था मेरठ का एक बड़ा कारोबारी।

    मेरठ का एक बड़ा कारोबारी मनोज गुप्ता इसके झूठे प्यार के धोखे में मुसीबत में पड़ गया। मनोज गुप्ता शादीशुदा है लेकिन दूसरी लड़कियों से भी दोस्ती की इच्छा रखता था। बस इसकी उसी कमजोरी ने इसकी हालत खराब कर दी। इसके चेहरे पर सूजन और लाल हो चुकी आंख बता रही है कि जनाब की अच्छी खासी मरम्मत हुई है।

    मनोज गुप्ता के मोबाइल पर एक दिन एक मिस कॉल आई थी। मनोज ने पलटकर फोन किया तो दूसरी तरफ एक अजनबी लड़की थी। लड़की अजनबी जरूर थी लेकिन उसकी आवाज बेहद खूबसूरत थी। मनोज उस आवाज के सम्मोहन में ऐसा फंसा कि फोन काटना ही भूल गया। जल्दी ही दोनों की दोस्ती मुलाकात तक भी जा पहुंची। एक मिस कॉल की वजह से एयरहोस्टेस से दोस्ती हो गई थी। मनोज के लिए तो इससे खूबसूरत मिस कॉल हो ही नहीं सकती थी। जल्दी ही दोनों ने साथ में वक्त गुजारने का प्रोग्राम बनाया और गुप्ता जी अपनी नई दोस्त को लेकर देहरादून के फॉर्म हाउस जा पहुंचे।

    मनोज गुप्ता का दावा है कि उसने फिरौती में एक पैसा भी नहीं दिया है। लेकिन इस मामले का पर्दाफाश होने तक खबरें आ रही थी कि उसने अपनी जान बचाने के लिए बीस लाख रुपये नकद और तीन किलो सोना बदमाशों के हवाले किया था।

    आपको बता दें इस अपहरणकांड की सबसे अहम कड़ी ममता है जिसने एक मिस कॉल के जरिए किडनैपिंग कांड को अंजाम दिया था। ममता की मानें तो वो उस जमाने में गुड़गांव के एक स्पा में काम करती थी जब उसकी मुलाकात त्यागी गिरोह से हुई। मेरठ के हिस्ट्रीशीटर विनय त्यागी और उसके लोगों ने उसे बीस लाख रुपये देने का लालच देकर इस अपहरण की योजना में शामिल किया था। कल तक विनय त्यागी गैंग की एक्टिव मेंबर रही ममता को अब अपने ही साथियों से जान का खतरा होने लगा है। पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद उसने अपनी जान पर खतरा बताकर सुरक्षा की मांग की है।

    आपको बता दें ममता उज्जैन के गरीब परिवार की पढ़ी लिखी लड़की है। एयरपोर्ट और एयरलाइंस सहित कई होटलों में भी काम कर चुकी है। फर्राटेदार अंग्रेजी बोलती है। उसकी इसी खासियत को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के त्यागी गैंग ने अपना हथियार बना लिया। पुलिस की मानें तो त्यागी गैंग कई आसामियों को अगवा कर करोडों रुपये कमा चुका है। लेकिन मनोज के अपहरण ने इन सब की पोल खोल दी और सब पहुंच गए सलाखों के पीछे।

    बहरहाल आपको बता दें आरोपी ममता देहरादून पुलिस को चकमा देकर फरार हो गई थी। जिसके बाद उसे दिल्ली के महिपालपुर के पास से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस का दावा है कि गिरोह के ज्यादातर सदस्य पकड़े जा चुके हैं। और बाकी जो अभी तक बाहर हैं उन्हें भी जल्दी ही पकड़ लिया जाएगा।

    Tags: देहरादून

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर