लाइव टीवी

एटीएम में जाली नोट डालने वाला गैंग पुलिस के हत्थे चढ़ा, इस तरकीब से खपाते थे नोट!

Bhawani Singh | News18India.com
Updated: October 19, 2016, 5:10 PM IST
एटीएम में जाली नोट डालने वाला गैंग पुलिस के हत्थे चढ़ा, इस तरकीब से खपाते थे नोट!
source: Getty images

जानकारी के मुताबिक इस गैंग का एक आरोपी खेमचंद हर महीने चार लाख के नकली नोट एटीएम के जरिए बाजार में पहुंचा देता था।

  • Share this:
जयपुर। एटीएम कई दफा असली के साथ जाली नोट भी उगलता है। एटीएम से जाली नोट मिलने की शिकायत लेकर लोग बैंकों के प्रबंधन के पास भी जाते रहे। पर बैंके ये स्वीकार ही नहीं करती कि ये जाली नोट उनकी बैंक के एटीएम से निकला। पुलिस के पास भी ऐसी शिकायतें आती रहीं, लेकिन नतीजा सिफर। अब जयपुर पुलिस ने एक ऐसे गैंग का पर्दाफाश किया है, जो एटीएम के जरिए जाली नोट जनता की जेब में डालने का गोरखधंधा करता है।

ये गैंग बैंककर्मियों के साथ मिलीभगत से जाली नोट एटीएम के जरिए अलग-अलग खातों में जमा करा देती थी। गैंग का नेटवर्क देशभर में है। जयपुर के पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल ने बताया कि पश्चिम बंगाल से ये नकली नोट राजस्थान में सप्लाई किए जा रहे थे। एक लाख असली नोट के बदले स्थानीय गैंग को तीन लाख नकली नोट देती थी। ये नकली नोट बैंककर्मियों की मिलीभगत से अलग-अलग इलाकों की एटीएम में पहुंच जाते थे।

ये गैंग जालसाजी में शामिल होने वाले बैंककर्मियों को पचास फीसदी कमीशन भी देता था। जयपुर पुलिस ने जाली नोट का गोरखधंधा करने वाले गैंग के चार गुर्गों को जाली नोटों की डिलीवरी के समय जयपुर के कूकस में गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के पास से तीन लाख के नकली नोट भी बरामद किए। जयपुर पुलिस गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ के आधार पर उन बैंक कर्मियों की तलाश कर रही है, जो जाली नोटों की सप्लाई की इस मिलिभगत में शामिल है।

जानकारी के मुताबिक इस गैंग का एक आरोपी खेमचंद हर महीने चार लाख के नकली नोट एटीएम के जरिए बाजार में पहुंचा देता था। गैंग का मास्टमाइंड अभी पुलिस की पहुंच से दूर है। जयपुर पुलिस इसे गिरफ्तार करने के लिए पश्चिम बंगाल के मालदा गई है। मुख्य आरोपी के पकड़े जाने के बाद खुलासा हो सकता है कि गैंग देश में किन- किन शहरों में अब तक एटीएम के जरिए कितने जाली नोट लोगों की जेब तक पहुंचा चुका है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 19, 2016, 4:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर