लाइव टीवी

एक बहन की जिद से रुका गैंगस्टर का अंतिम संस्कार, छह महीने से रखा हुआ है शव!

ओम प्रकाश | News18India.com
Updated: August 17, 2016, 5:32 PM IST
एक बहन की जिद से रुका गैंगस्टर का अंतिम संस्कार, छह महीने से रखा हुआ है शव!
हरियाणा के जिस गैंगस्टर संदीप गाड़ौली के नाम पर पूरी साइबर सिटी कांपती थी, उसकी लाश 190 दिन से मुंबई के जेजे अस्पताल में पड़ी हुई है। गुड़गांव पुलिस ने 7 फरवरी को मुंबई के होटल एयरपोर्ट मेट्रो में एनकाउंटर कर दिया था। उस पर एक लाख रुपये का इनाम था।

हरियाणा के जिस गैंगस्टर संदीप गाड़ौली के नाम पर पूरी साइबर सिटी कांपती थी, उसकी लाश 190 दिन से मुंबई के जेजे अस्पताल में पड़ी हुई है। गुड़गांव पुलिस ने 7 फरवरी को मुंबई के होटल एयरपोर्ट मेट्रो में एनकाउंटर कर दिया था। उस पर एक लाख रुपये का इनाम था।

  • Share this:
नई दिल्ली। हरियाणा के जिस गैंगस्टर संदीप गाड़ौली के नाम पर कभी पूरी साइबर सिटी कांपती थी, लेकिन उसकी लाश 190 दिन से मुंबई के जेजे अस्पताल में पड़ी हुई है। गुड़गांव पुलिस ने 7 फरवरी को मुंबई के होटल एयरपोर्ट मेट्रो में एनकाउंटर कर दिया था। उस पर एक लाख रुपये का इनाम था। एनकाउंटर में मारे गए बदमाश संदीप का गुनाह की काली दुनिया में बस नाम ही काफी था। संदीप पर कत्ल, कत्ल की कोशिश, धमकी, जबरन वसूली और सट्टेबाजी जैसे 36 से ज्यादा संगीन मामले दर्ज थे।

गाड़ौली की बहन सुदेश इस जिद पर अड़ी है कि जब तक उसके भाई को मारने वाले सभी आरोपी सलाखों के पीछे नहीं चले जाते तब तक वह अपने भाई का अंतिम संस्कार नहीं करेगी। बहन की जिद इतनी बड़ी हो गई है कि एनकाउंटर टीम लीडर सहित गुडग़ांव के चार पुलिसकर्मी जेल में हैं। गैंगस्टर की प्रेमिका दिव्या पाहूजा और उसकी मां भी सलाखों के पीछे हैं। गाड़ौली की बहन का आरोप है कि जिस वक्त संदीप को मारा गया उस वक्त उसके साथ दिव्या पाहुजा मौजूद थी। उसी ने पुलिस के लिए मुखबिरी की। उसने गुड़गांव के तत्‍कालीन सीपी नवदीप सिंह विर्क पर भी हत्‍या करवाने का आरोप लगाया था।

गुडग़ांव के पुलिस आयुक्त इस गैगस्टर को मारने का श्रेय लेते इससे पहले उसकी बहन सुदेश ने पुलिस को अदालती जाल में फांस दिया। गुडग़ांव पुलिस को मुंबई हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक दौड़ाया। गुडग़ांव पुलिस ने अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी तक को अदालत में अपना पक्ष रखने के लिए खड़ा किया लेकिन सुदेश के पैंतरों ने पुलिस को राहत की सांस नहीं लेने दी। साथ ही उसने तय किया कि यदि वह अपने भाई की लाश का अंतिम संस्कार नहीं करेगी तो एनकाउंटर करने वाली टीम के खिलाफ कार्रवाई का दबाव बनेगा। गैंगस्‍टर की बहन की जिद के आगे गुड़गांव पुलिस बेबस हो गई।

उसकी यह रणनीति काम आई और मुंबई पुलिस को गुडग़ांव पुलिस की एनकाउंटर टीम के चार सदस्‍यों को गिरफ्तार करना पड़ा। अभी दो सदस्‍य फरार बताए गए हैं। जेल में बंद एक गैंगस्टर बिंदर गुर्जर और एक बड़े पुलिस अधिकारी पर भी कार्रवाई को लेकर वह अड़ी हुई है इसलिए अपने भाई की लाश का अंतिम संस्कार अब तक नहीं किया है। देश के अपराध जगत के इतिहास में शायद यह पहला मौका है जब किसी गैंगस्टर की लाश को इतने लंबे समय तक अंतिम संस्कार का इंतजार है।



 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सिटी खबरें से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 17, 2016, 5:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर