हार्दिक के सहयोगियों को हाई कोर्ट से फटकार, कहा- साबित करें अपहरण

हार्दिक के सहयोगियों को हाई कोर्ट से फटकार, कहा- साबित करें अपहरण
हाई कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को अपने दावे के समर्थन में 23 नवंबर से पहले हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया और कहा कि अगर वे इस बार ऐसा करने में नाकाम रहे तो प्रतिकूल आदेश के लिए तैयार रहिए।

हाई कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को अपने दावे के समर्थन में 23 नवंबर से पहले हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया और कहा कि अगर वे इस बार ऐसा करने में नाकाम रहे तो प्रतिकूल आदेश के लिए तैयार रहिए।

  • Share this:
अहमदाबाद। गुजरात हाई कोर्ट ने पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल के सहयोगियों से उनके इस दावे के समर्थन में सबूत देने के लिए कहा कि सितंबर में हार्दिक का अपहरण हुआ। अदालत ने बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर करने वाले उनके वकीलों को जवाब सौंपने में देरी पर आड़े हाथ लिया। हाई कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को अपने दावे के समर्थन में 23 नवंबर से पहले हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया और उनके वकीलों से कहा कि अगर वे इस बार ऐसा करने में नाकाम रहे तो प्रतिकूल आदेश के लिए तैयार रहिए।

न्यायमूर्ति एम आर शाह और न्यायमूर्ति के जे ठाकर की पीठ ने यह निर्देश ऐसे समय दिया जब कुछ घंटे पहले सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में हस्तक्षेप से इंकार कर दिया है। गौरतलब है कि यह छठी बार है जब हाई कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को हार्दिक के अपहरण के अपने दावे के समर्थन में सबूत देने के लिए समय दिया है।

इससे पहले, 27 अक्तूबर को अदालत ने हार्दिक के वकीलों को पुलिसकर्मियों जैसे दिखने वाले अज्ञात लोगों द्वारा उनके कथित अपहरण से संबंधित याचिका में लगाए गए आरोपों के समर्थन में हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया था।



 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading