लाइव टीवी

आशिक का काम संभालते-संभालते एक आम औरत बनी लेडी डॉन

News18India
Updated: October 14, 2016, 8:25 AM IST
आशिक का काम संभालते-संभालते एक आम औरत बनी लेडी डॉन
घूंघट की आंड़ से 100 करोड़ का काला कारोबार, सुनने में भले ही अजीब लग रहा हो लेकिन हकीकत यही है...

घूंघट की आंड़ से 100 करोड़ का काला कारोबार, सुनने में भले ही अजीब लग रहा हो लेकिन हकीकत यही है...

  • News18India
  • Last Updated: October 14, 2016, 8:25 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। घूंघट की आंड़ से 100 करोड़ का काला कारोबार, सुनने में भले ही अजीब लग रहा हो लेकिन हकीकत यही है। जोधपुर से आई इस खबर ने उस समय पुलिस के होश फाख्ता कर दिए जब उन्हें पता चला कि एक सीधी-साधी सी दिखने वाली औरत इलाके की लेडी डॉन है।

समता बिश्नोई नाम की औरत कितनी खतरनाक है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जितने भी गैर कानूनी धंधे हो सकते हैं, वो सब कुछ इसके इशारे पर ही होते थे। दिखने में साधारण इस महिला के काम, इतने टेढ़े हैं कि खुद पुलिस का भी सिर चकरा चुका है।

खुलासे में बात सामने आई है कि अपने आशिक का काम संभालने की वजह से समता एक आम औरत से लेडी डॉन बन गई। आजाद ख्याल और ऐशो आराम की जिंदगी जीने की तलबगार समता ने अपनी ड्राइवर पति को छोड़ कर शराब तस्कर राजू ईराम का हाथ थाम लिया।

देखते ही देखते वो उसके गैरकानूनी धंधे को भी संभालने लगी। उधर राजू अक्सर जेल में रहता था। लिहाजा समता ने उसका सारा कारोबार अपने हाथ में ले लिया और उसे करोड़ों के कारोबार में तब्दील कर दिया। सबसे दिलचस्प पहलू ये है कि इसके किसी भी धंधे की भनक पड़ोसी तक को नहीं हो सकी।



समता ने शहर में तीन-चार जगह आलीशान मकान खरीदे। उसके पास लग्जरी गाड़ियों का पूरा काफिला है। पुलिस का खुलासा कहता है कि उसके धंधे की सालाना कमाई 100 करोड़ से भी ज्यादा हो सकती है।

समता कितनी शातिर है उसका अंदाजा उसकी गाड़ियों को देखकर लगाया जा सकता है जिन पर लगे जीपीएस सिस्टम से वो पूरी गैंग पर नजर रखती थी। ये और बात है कि इसी जीपीएस सिस्टम ने पुलिस को समता तक पहुंचाया। फिलहाल पुलिस इस मामले में तफ्तीश कर रही है कि ये मामूली सी दिखने वाली इतनी हाइटेक और शातिर कैसे बन गई।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सिटी खबरें से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2016, 8:10 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर