Home /News /city-khabrain /

गुनहगार को मिली दोहरी मौत, दोहरी उम्रकैद की सजा

गुनहगार को मिली दोहरी मौत, दोहरी उम्रकैद की सजा

 HC ने RTI कार्यकर्ता को कोर्ट में उपस्थित होने का दिया अंतिम मौका

HC ने RTI कार्यकर्ता को कोर्ट में उपस्थित होने का दिया अंतिम मौका

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने रेप और हत्या के मामले में 21 साल के शख्स को दोहरी उम्रकैद और दोहरी मौत की सजा सुनाई है।

    नागपुर। बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने रेप और हत्या के मामले में 21 साल के शख्स को दोहरी उम्रकैद और दोहरी मौत की सजा सुनाई है। ऐसी सजा का देश में यह पहला मामला है इसलिए जिस किसी ने भी न्यायालय के फैसले की खबर सुनी हैरान रह गया।

    शत्रुघ्न मसराम ने हैवानियत की हद पार करते हुए दो साल की भांजी का दुष्कर्म करने के बाद उसकी हत्या कर दी थी। जस्टिस भूषण गावी और जस्टिस प्रसन्ना वराले की खंड पीठ ने सजा की पुष्टि की। यवतमाल के सत्र न्यायालय ने इस मामले में शत्रुघ्न को दोहरी फांसी और दो बार उम्रकैद की सजा सुनाई थी। हाई कोर्ट ने सजा को बरकरार रखा। दोषी ने हाई कोर्ट में अपील की थी कि उसकी कम उम्र को देखते हुए सजा सुनाने में नरमी की जाए।

    हालांकि, अदालत ने उसकी याचिका को खारिज करते हुए स्पष्ट किया कि ऐसे जघन्य अपराध में दया की कोई गुंजाइश नहीं हो सकती।

    पीडि़ता बच्ची के माता-पिता आंध्र प्रदेश के श्रमिक थे। घटना से चार माह पहले काम की तलाश में दोनों घंटाजी आए थे। हादसे के दिन पीडि़ता के माता-पिता उसे रिश्तेदार के यहां छोड़ स्थानीय मंदिर के एक कार्यक्रम में शामिल होने गए थे।

    मौके का फायदा उठाते हुए शत्रुघ्न दो वर्षीय बच्ची को पास स्थित निर्माणाधीन स्थल पर ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया। उसने दांत से बच्ची के शरीर का मांस जगह-जगह काट दिया था। बच्ची के पूरे शरीर पर काटने के निशान थे। बच्ची ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया था।

    Tags: Bombay high court, Nagpur

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर