लाइव टीवी

...तब इंद्राणी ने पूछा था कि ये 302 क्या होता है?

News18India.com
Updated: September 4, 2015, 2:27 PM IST
...तब इंद्राणी ने पूछा था कि ये 302 क्या होता है?
शीना बोरा मर्डर केस में लंबी होती पूछताछ के सिलसिले के साथ ही नए-नए खुलासों का दौर जारी है। इंद्राणी मुखर्जी को लेकर कई तथ्य सामने आ रहे हैं।

शीना बोरा मर्डर केस में लंबी होती पूछताछ के सिलसिले के साथ ही नए-नए खुलासों का दौर जारी है। इंद्राणी मुखर्जी को लेकर कई तथ्य सामने आ रहे हैं।

  • Share this:
मुंबई। शीना बोरा मर्डर केस में लंबी होती पूछताछ के सिलसिले के साथ ही नए-नए खुलासों का दौर जारी है। इंद्राणी मुखर्जी को लेकर कई तथ्य सामने आ रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक तलाक के बाद भी इंद्राणी के बाद भी इंद्रानी और संजीव खन्ना के रिश्ते खत्म नहीं हुए थे।

आमने-सामने की पूछताछ में दोनों ने बताया कि इंद्राणी ने तलाक के बाद भी संजीव को कई कंपनियों में डायरेक्टर के तौर पर एक नाम उसका भी रखा था। पुलिस सूत्रों के अनुसार, इंद्राणी की कुल पांच कंपनियां थीं। इन सभी कंपनियों के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में सिर्फ संजीव खन्ना ही नहीं, इंद्राणी के वर्तमान पति पीटर मुखर्जी भी शामिल थे।

पुलिस अब पीटर से पूछ रही है कि पीटर ने क्यों इंद्राणी के पूर्व पति को अपनी कंपनी में डायरेक्टर बनने दिया? सब कुछ जानने के बाद भी पीटर ने इंद्राणी और संजीव खन्ना से जन्मी लड़की विधि को भी गोद लेने में इतनी दिलचस्पी क्यों दिखाई? आखिर क्या कारण था कि पीटर ने इंद्राणी की गिरफ्तारी के बाद मीडिया को जो कुछ बताया है, उसमें काफी कुछ सच जानबूझकर छिपाया? मुंबई पुलिस की अलग-अलग टीमें कोलकाता, गुहावटी के साथ-साथ देश के अलग-अलग शहरों में सबूत जुटाने गई हुई हैं।



कल हुई आमने-सामने की पूछताछ में संजीव और श्याम दोनों ने इंद्राणई के सामने ये ख़ुलासा किया  कि 24 अप्रैल, 2012 को शीना का मर्डर करने के अगले दिन रायगढ़ में गोगाडे कुर्ड में शीना की लाश को पेट्रोल से जला दिया गया था। इस जगह पर लाश में आग लगाने का फैसला किसी और का नहीं , खुद इंद्राणी का था।



सूत्रों के मुताबिक इंद्राणी ने ये जगह पहले भी देख रखी थी। दरअसल वो अक्सर किसी फार्म हाउस जाती थी और इसी रास्ते से गुजरती थी। उसी दौरान उसने इस जगह को देख लिया था और फिर यहीं पर सिर्फ शीना की ही नहीं, अपने बेटे मिखाइल की लाश को भी जलाने का फैसला कर लिया था।

पिछले महीने 25 अगस्त को जब खार पुलिस इंद्राणी को गिरफ्तार करने गई, तो वह एक एनजीओ से जुड़े कार्यक्रम में बैठी हुई थी। इंद्राणी ने पुलिस को देखते ही किसी आईपीएस अधिकारी को फोन लगाने की कोशिश की पर वह अपने प्रयास में सफल नहीं हो पाईं। तब उसने पुलिसकर्मियों से पूछा कि मुझे किस अपराध में लेकर जा रहे हो तो जवाब में एक पुलिसकर्मी ने कहा कि हम आपसे आईपीसी के सेक्शन 302 में पूछताछ करना चाहते हैं।

तब इंद्राणी ने पूछा कि यह 302 क्या होता है? जवाब में उस पुलिसकर्मी ने कहा कि आप पर मर्डर का आरोप है। इसके बाद इंद्राणी वहीं गिर गई और ज़ोर-ज़ोर से पुलिस वालों पर चिल्लाने लगी। पुलिस टीम के साथ जाने से पहले इंद्राणी ने मुंबई पुलिस के एक बड़े अफ्सर को फ़ोन भी किया, लेकिन उस अफ़सर ने भी ये कहते हुए फ़ोन काट दिया कि 302 तो आप जानती हैं।  इतना ही नहीं इंद्राणी ने इस दौरान अपने पति को 5 कॉल किए, लेकिन पीटर ने फ़ोन नहीं उठाया।

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सिटी खबरें से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2015, 2:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading