शीना मर्डर केस में आया एक और ट्विस्ट, अब चौथे किरदार की तलाश

मुंबई पुलिस को शीना बोरा हत्याकांड में एक और शख्स के शामिल होने का संदेह हो रहा है। पुलिस का मानना है कि ये शख्स हत्या में सीधे तौर पर शामिल न भी हो तो उसका इस्तेमाल जरूर किया गया।

  • News18India
  • Last Updated: August 29, 2015, 10:35 PM IST
  • Share this:
मुंबई। मुंबई पुलिस को शीना बोरा हत्याकांड में एक और शख्स के शामिल होने का संदेह हो रहा है। पुलिस का मानना है कि ये शख्स हत्या में सीधे तौर पर शामिल न भी हो तो उसका इस्तेमाल जरूर किया गया। इस शख्स को इंद्राणी ने संजीव के साथ ही मुंबई के हिलटॉप होटल में ठहराया था। इस शख्स का इस्तेमाल इंद्राणी ने हत्या के बाद शीना की कंपनी को उसका इस्तीफा भेजने और मकान मालिक से रेंट एग्रीमेंट तोड़ने में किया था।

पुलिस जल्द ही कुछ लोगों को मकान मालिक और कपनी के अफसरों के आमने-सामने खड़ा कर उनकी पहचान करा सकती है। पुलिस उस ओपल कोर्सा कार तक भी पहुंच गई है जिसमें शीना का कत्ल किया गया था। इस कार को औने-पौने दाम पर डीलर को बेचा गया था। पुलिस अब आरोपियों को मौका ए वारदात तक ले जाकर क्राइम सीन को री क्रिएट भी करने वाली है।

केस के तीन-तीन आरोपी इस वक्त हवालात में सलाखों के पीछे हैं। हत्याकांड की मास्टरमाइंड शीना की मां इंद्राणी, शीना के सौतेले पिता संजीव खन्ना, इंद्राणी का ड्राइवर श्याम राय। पुलिस के पास एक और भी शख्स है जिसका दावा था कि वो बोलेगा- इंद्राणी के तमाम राज खोलेगा। पुलिस इंद्राणी के बेटे मिखाइल बोरा को गुवाहाटी से इसी उम्मीद में मुंबई में ले आई कि उससे हत्याकांड की जांच में मदद मिलेगी। लेकिन मिखाइल के मुंबई आने के बाद कहानी में एक नया ट्विस्ट आ गया है।



शुक्रवार को पुलिस ने मिखाइल को खार थाने बुलाया और इंद्राणी के सामने खड़ा कर दिया। लेकिन पुलिस अफसर ये देखकर चौंक पड़े कि इंद्राणी उसे देखकर पागलों की तरह चीखने लगी। इंद्राणी ने चीखते हुए कहा कि ‘ये मुझसे पैसे लेता था, मैने इसको बोल दिया, बस बहुत हुआ। अब मैं और पैसे नहीं दूंगी।‘
पुलिस के मन में सवाल उठना लाजिमी था। आखिर किस बात के लिए पैसे वसूलता था इंद्राणी से मिखाइल? पुलिस ने अब मिखाइल से सवाल-जवाब का सिलसिला तेज कर दिया। लेकिन पुलिस की हैरानी बढ़ती गई जब मिखाइल पुलिस को लगातार भटकाने वाले और गुमराह करने वाले बयान देने लगा। मसलन उसका कहना है कि शीना के साथ इंद्राणी उसे भी मारना चाहती थी। लेकिन जब पुलिस ने ये पूछा कि 20 से 24 अप्रैल 2012 के बीच वो कहां था तो मिखाइल के पास कोई ठोस जवाब नहीं था।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading