जल संकट : CM जयराम ने ली फ़ीडबैक, शिमला में हर तरह के निर्माण पर रोक

मुख्य सचिव और अन्य अफसरों से मीटिंग करते सीएम जयराम ठाकुर.

मुख्य सचिव और अन्य अफसरों से मीटिंग करते सीएम जयराम ठाकुर.

सीएम की ओर से पानी के संकट को लेकर एक कमेटी बनाई गई है, मुख्य सचिव इसके अध्यक्ष हैं. उन्होंने सोमवार को फिल्ड में उतकर हालात का जायजा लिया था.

  • Share this:

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में गहराए पेजयल संकट को लेकर सीएम जयराम ठाकुर ने अब खुद कमान संभाल ली है.

सोमवार को दो बार मीटिंग करने के बाद मंगलवार को सीएम ने अधिकारियों से पेयजल संकट लेकर फीडबैक ली. साथ ही मुख्य सचिव विनीत चौधरी ने भी सीएम को अब तक उठाए कदमों की रिपोर्ट दी है.

जब तक बरसात नहीं, निर्माण पर रोक

सरकार ने राजधानी शिमला में सभी तरह के निर्माण पर प्रतिबंध लगाने के आदेश जारी कर दिए हैं, जब तक बरसात नहीं होगी तब तक कोई भी निर्माण कार्य नहीं होगा.
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि पेयजल किल्लत से निपटने के लिए सरकार ने पूरी ताकत झोंक दी है. 35 टैंकरों के जरिए राजधानी शिमला को पेयजल आपूर्ति की जा रही है. सीएम ने यह भी कहा कि गुम्मा परियोजना के तहत कुहलों को भी बंद करने के निर्देश दिए हैं. इनका पानी अब सीधे शिमला ही पहुंचाया जाएगा.



किसानों को दिया जाएगा मुआवजा

कुहलों को बंद करने से किसानों को जो नुकसान होगा, उसका सरकार मुआवजा देगी. पेजयल वितरण में गड़बड़ी की शिकायतों पर सीएम ने कहा कि अगर ऐसा हुआ तो दोषी अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

बता दें कि सीएम की ओर से पानी के संकट को लेकर एक कमेटी बनाई गई है, मुख्य सचिव इसके अध्यक्ष हैं. उन्होंने सोमवार को फिल्ड में उतकर हालात का जायजा लिया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज