28 साल बाद याद कीजिए वो लम्हा और दिल से बोलिए- 'सचिन, सचिन, सचिन...'

सचिन तेंदुलकर वानखेड़े स्टेडियम में अपनी आखिरी पारी खेलकर लौटते हुए. फाइल फोटो.

सचिन तेंदुलकर वानखेड़े स्टेडियम में अपनी आखिरी पारी खेलकर लौटते हुए. फाइल फोटो.

क्रिकेट में कभी आंकड़े और तारीख का ऐसा मेल बनता है कि वो बेहद दिलचस्प सा लगने लगता है. ऐसा ही कुछ 28 साल पहले मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम पर हुआ था, जब 'भगवान' ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अपना पहला कदम रखा था.

  • Pradesh18
  • Last Updated: December 11, 2016, 1:32 AM IST
  • Share this:

क्रिकेट में आंकड़े और इतिहास में तारीखें कई बार उबाऊ सी लगती है. फिर भी कभी आंकड़े और तारीख का ऐसा मेल बनता है कि वो बेहद दिलचस्प सा लगने लगता है. ऐसा ही कुछ 28 साल पहले मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम पर हुआ था, जब 'भगवान' ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अपना पहला कदम रखा था.

ये भी पढ़ें : ऑस्ट्रेलिया के इस बल्लेबाज ने गांगुली की बराबरी की, सचिन पर गड़ाए है नजर

क्रिकेट के इतिहास में बल्लेबाजी के अधिकांश रिकॉर्ड अपने नाम करने वाले सचिन तेंदुलकर ने 'क्रिकेट के भगवान' बनने की तरफ पहला कदम बढ़ाया था. 10 दिसंबर 1988 को सचिन ने ऐतिहासिक वानखेड़े स्टेडियम पर प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण किया था.

ये भी पढ़ें: सचिन के घर में कोहली ने लिया ऐसा फैसला, जो 83 साल में न हुआ


गुजरात के खिलाफ मुंबई की तरफ से खेलने के लिए उतरे सचिन उस वक्त सिर्फ 15 साल के थे. सचिन ने अपने ही पहले ही मैच में शतक जमाकर वर्ल्ड क्रिकेट को भविष्य की झलक दिखा दी थी.

पहले बल्लेबाजी करते हुए गुजरात की पारी 140 रन पर सिमट गई. जवाब में मुंबई ने छह विकेट पर 394 रन बनाकर पारी घोषित की थी. मुंबई के लिए एएन सिप्पी ने 127 रन की पारी खेली, जबकि सचिन 100 रन बनाकर नाबाद रहे थे. सचिन के शतक पूरा होते ही मुंबई टीम के कप्तान लालचंद राजपूत ने पारी घोषित कर दी थी.



ये भी पढ़ें: सचिन ने रिटायरमेंट के तीन साल बाद खोला राज, क्रिज पर खड़े होकर ये देखकर हो जाते थे खुश

गुजरात ने दूसरी पारी 306 रन बनाए थे. इस तरह मुंबई को जीत के लिए 53 रन का टारगेट मिला था, लेकिन खेल खत्म होने पर मेजबान टीम दो विकेट खोकर 43 रन ही बना सकी. इस तरह मैच ड्रा रहा था और सचिन को दूसरी पारी में बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला था.

आज सचिन ने खेला था पहला मैच 2005 में

सचिन तेंदुलकर ने ठीक 11 साल पहले 10 दिसंबर को टेस्ट क्रिकेट में सुनील गावस्कर के सर्वाधिक 34 शतक के रिकॉर्ड को तोड़ा था. ढाका में 34वां शतक जमाने के करीब एक साल बाद श्रीलंका के खिलाफ दिल्ली टेस्ट में सचिन के बल्ले से निकला था रिकॉर्ड 35वां शतक.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज