दिल्ली-NCR के घरों में घुस डकैती करने वाले तीन बांग्लादेशी गिरफ्तार, लूट का सामान बरामद

बांग्लादेश से आकर भारत के इन शहरों में डाका डालता था यह गिरोह, तीन गिरफ्तार.

बांग्लादेश से आकर भारत के इन शहरों में डाका डालता था यह गिरोह, तीन गिरफ्तार.

दिल्ली क्राइम ब्रांच ने तीन खतरनाक बांग्लादेशी डकैतों को पकड़ा है. यह दिल्ली एनसीआर में कई दर्जन डकैती की वारदातों को अंजाम दे चुके हैं. इन डकैतों ने 28 फरवरी को गाजियाबाद के कवि नगर स्थित एक घर में धाबा बोलकर लाखों का कैश और सोना चांदी लूट लिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 7, 2021, 12:45 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच (Delhi Crime Branch) ने तीन बांग्लादेशी डकैतों को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए लोग दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में कई दर्जन डकैती की वारदातों को अंजाम दे चुके हैं. आरोपियों ने बीते 28 फरवरी को दिल्ली से सटे गाजियाबाद (Ghaziabad) के कवि नगर स्थित एक घर पर धावा बोलकर लाखों के कैश और सोना-चांदी लूट लिया था. दिल्ली पुलिस ने बांग्लादेशी डकैतों के कब्जे से लूटे गए सोना-चांदी, बेशकीमती घड़ियां और 50 हजार रुपए नकद बरामद किया है.

क्राइम ब्रांच के डीसीपी भीष्म सिंह के मुताबिक बांग्लादेशी गैंग की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली, गुरुग्राम, फरीदाबाद, नोएडा और गाजियाबाद में हुई 18 वारदातों का खुलासा हुआ है. गिरफ्तार डकैतों के नाम मोहम्मद खैरूल, मोहम्मद मोंटू, मोहम्मद सादिक है. मोहम्मद खैरूल इस गैंग का सरगना है. यह गैंग दिल्ली-एनसीआर के अलावा देश के अलग-अलग राज्यों में भी डकैती की वारदातों को अंजाम देता था और पकड़े जाने के डर से बंगलादेश भाग जाता था.

पुलिस ने बताया कि 27-28 फरवरी की रात इन डकैतों ने गाजियाबाद के एक बिजनसमैन के घर में घुसकर उनके दो बेटों और पत्नी को चाकू और तमंचे के बल पर बंधक बनाकर जमकर लूटपाट की थी. भीष्म सिंह ने बताया कि क्राइम ब्रांच इस बंगलादेशी गैंग की लंबे वक्त से तलाश में जुटी थी. टेक्निकल सर्विलांस के जरिये लाडो सराय में ट्रैप लगाकर इन सभी को गिरफ्तार किया गया है.



गैंग लीडर मोहम्मद खैरूल 1997 से डाल रहा डकैती
डकैतों की इस गैंग का लीडर मोहम्मद खैरूल वर्ष 1997 से डकैती की वारदातों को अंजाम दे रहा है. खैरूल और मोहम्मद मोंटू अवैध रूप से अक्टूबर 2020 में स्तखीरा बॉर्डर से बांग्लादेश से भारत में दाखिल हुए थे. जिसके बाद यह लोग कुछ दिन कोलकाता में रहे. इस गैंग को दिल्ली में राजीव श्रीवास्तव नाम का शख्स किराए पर घर और कार मुहैया कराता था. दिल्ली की पॉश कॉलोनियों के घरों को यह खास तौर पर अपना निशाना बनाते थे. यह घरों की ग्रिल और खिड़की तोड़कर अंदर दाखिल होते थे. विरोध करने पर यह डकैत लोगों की जान लेने से भी गुरेज नहीं करते थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज