होम /न्यूज /crime /

Bareilly: 'किसी को गिफ्ट भेजना है, जल्‍दी दस-दस हजार रुपये के ई-गिफ्ट वाउचर भेज दो', DM बन साइबर ठग ने खेला खेल

Bareilly: 'किसी को गिफ्ट भेजना है, जल्‍दी दस-दस हजार रुपये के ई-गिफ्ट वाउचर भेज दो', DM बन साइबर ठग ने खेला खेल

बरेली में साइबर ठग द्वारा जिलाधिकारी के नाम पर अधिकारियों से पैसे मांगने का मामला सामने आया है.

बरेली में साइबर ठग द्वारा जिलाधिकारी के नाम पर अधिकारियों से पैसे मांगने का मामला सामने आया है.

Bareilly News: उत्तर प्रदेश के बरेली में साइबर ठग द्वारा जिलाधिकारी के नाम पर अधिकारियों से पैसे मांगने का मामला सामने आया है. ठग ने अधिकारियों को मैसेज लिखते हुए दस-दस हजार रुपये के दस अमेजन ई-गिफ्ट वाउचर भेजने का आदेश दिया. वहीं, पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

अधिक पढ़ें ...

बरेली. उत्तर प्रदेश के बरेली में जिलाधिकारी के नाम पर साइबर ठग द्वारा अधिकारियों से पैसे मांगने का मामला सामने आया है. इसके बाद पुलिस प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच कर रही है. वहीं, पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी. पुलिस के अनुसार, एक साइबर ठग ने खुद को बरेली का जिलाधिकारी शिवाकांत द्विवेदी बताते हुए व्हाट्सएप कॉल के जरिये सिटी मजिस्ट्रेट और सभी उप जिलाधिकारियों से ई-गिफ्ट वाउचर की मांग की.

पुलिस ने बताया कि ठग ने अधिकारियों को मैसेज लिखा, ‘ फोन न करना, मीटिंग में हूं, किसी को गिफ्ट भेजना है, इसलिए दस- दस हजार रुपये के दस अमेजन ई-गिफ्ट वाउचर भेज दो.’

ऐसे खुली जिलाधिकारी के नाम पर पैसे मांगने वाले साइबर ठग की पोल
इसके साथ पुलिस ने बताया कि संदेह होने पर उप जिलाधिकारी (सदर) ने जिलाधिकारी कार्यालय से संपर्क किया तो पता चला कि वह वहां बैठे हैं, इसके बाद सभी अधिकारियों को संबंधित नंबर से आने वाली कॉल से सतर्क किया गया. उन्होंने बताया कि इसके बाद देर शाम कोतवाली बरेली में एसडीएम द्वारा तहरीर दी गई, जिसके आधार पर मामला दर्ज कर पुलिस जांच में जुट गई.

आरोपी का पता लगाने के लिए आईटी विशेषज्ञों की मदद
इस बीच बरेली के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रोहित सिंह सजवान ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है. उन्होंने कहा कि पुलिस ने आरोपी का पता लगाने के लिए आईटी विशेषज्ञों की मदद मांगी है.

इससे पहले एक ऐसा ही मामला बागपत में सामने आया था. दरअसल साइबर ठग ने डीएम की फोटो व्हाट्स एप पर लगाकर एसपी से ई-गिफ्ट की मांग की थी. एसपी ने मैसेज मिलने पर डीएम को जानकारी दी थी. वहीं, डीएम ने कहा कि मैंने इस तरह का कोई मैसे नहीं भेजा है. इसके बाद पुलिस की जांच में मोबाइल नंबर की लोकेशन राजस्थान में मिली थी. हालांकि अभी तक कोई अपराधी पकड़ा नहीं गया है.

Tags: Bareilly Big News, Bareilly police, Cyber ​​Thug

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर