दिल्ली में वाहन चोर गिरोह के 15 सदस्य गिरफ्तार, चुराई गई 125 टू-व्हीलर बरामद

पुलिस के मुताबिक यह शातिर गिरोह अलग-अलग जगहों से दोपहिया वाहन चुराकर उससे लूटपाट और झपटमारी की वारदातों को अंजाम देता था (फाइल फोटो)
पुलिस के मुताबिक यह शातिर गिरोह अलग-अलग जगहों से दोपहिया वाहन चुराकर उससे लूटपाट और झपटमारी की वारदातों को अंजाम देता था (फाइल फोटो)

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने बताया कि वाहन चोरों और झपटमारों के बीच एक गठजोड़ नजर आया था. इससे पता चला था कि वो बाहरी जिले में झपटमारी करने के लिए चोरी की गाड़ियों का इस्तेमाल कर रहे हैं. इसके बाद यह गिरफ्तारियां की गई हैं और इनसे अलग-अलग इलाकों से चोरी किए गए 125 दोपहिया वाहन और छह मोबाइल फोन (Mobile Phone) बरामद किए गए हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 8:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में वाहन चोर गिरोह (Vehicle Theft Gang) का पर्दाफाश हुआ है. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने गिरोह के शातिर 15 सदस्यों को गिरफ्तार कर उनके पास से चोरी के 125 दोपहिया वाहन और छह मोबाइल फोन (Mobile Phone) बरामद किए हैं. पुलिस के मुताबिक यह शातिर गिरोह दोपहिया वाहनों को चुराकर उनका लूट और झपटमारी के वारदातों में इस्तेमाल करता था.

पुलिस ने मंगलवार को बताया कि वाहन चोरों और झपटमारों के बीच एक गठजोड़ नजर आया था. इससे पता चला था कि वो बाहरी जिले में झपटमारी करने के लिए चोरी की गाड़ियों का इस्तेमाल कर रहे हैं. इसके बाद यह गिरफ्तारियां की गई हैं और इनसे अलग-अलग इलाकों से चोरी किए गए 125 दोपहिया वाहन और छह मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं.

पुलिस के मुताबिक वाहन चोर झपटमारों को चोरी की बाइक किराए या कमीशन पर देते थे. बाहरी दिल्ली के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) ए कोआन ने बताया कि ऐसी गतिविधियों को रोकने के लिए प्रभावी निगरानी रखने के लिए 23 अक्टूबर को टीम गठित की गई थी. उन्होंने बताया कि सुल्तानपुरी में पुराने मच्छी चौक पर पुलिस ने बाइक सवार तीन लोगों को पकड़ा. जांच के दौरान उन्होंने भागने की कोशिश की थी.
डीसीपी ने बताया कि उनकी पहचान सुमित, अजय और विकास के तौर पर हुई है और उनके पास से बरामद बाइक को सुल्तानपुरी इलाके से चोरी किया गया था. वो सुल्तानपुरी और आसपास के इलाकों से बाइक चुराते थे और इनका इस्तेमाल लूट या झपटमारी करने के लिए करते थे. साथ ही वो चुराई गई गाड़ियों को अन्य अपराधियों को किराए पर देते थे जो वाहन चोरी, झपटमारी और लूट की वारदातों को अंजाम देते हैं.




कोआन ने बताया कि आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि उन्होंने चोरी की कई गाड़ियों को अलग-अलग इलाकों में पार्क कर रखा था. उन्होंने बताया कि आरोपियों ने खुलासा किया कि सागर नाम के व्यक्ति की अगुवाई में कई गिरोह चल रहे हैं. सागर चोरी, झपटमारी और वाहन चोरी के 33 मामलों में शामिल है.
उन्होंने बताया कि इसके बाद पुलिस ने छापेमारी कर गिरोह के सरगना सागर समेत 12 अपराधियों को गिरफ्तार किया.

पुलिस ने बताया कि गिरोह में शामिल 15 शातिर सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है. (भाषा से इनपुट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज