Home /News /crime /

delhi police crime branch team busted cheating gang arrested one member of racket

Delhi Crime: भीड़भाड़ वाली मार्क‍िट, मॉल में मह‍िलाओं को न‍िशाना बनाने वाले ठग गैंग का पर्दाफाश

क्राइम ब्रांच ने राजधानी में एक ऐसे रैकेट का पर्दाफाश क‍िया है जोक‍ि व्‍यस्‍तम बाजारों और मॉल आद‍ि में मह‍िलाओं को अपनी ठगी का श‍िकार बनाता था.

क्राइम ब्रांच ने राजधानी में एक ऐसे रैकेट का पर्दाफाश क‍िया है जोक‍ि व्‍यस्‍तम बाजारों और मॉल आद‍ि में मह‍िलाओं को अपनी ठगी का श‍िकार बनाता था.

Cheating Gang Busted: क्राइम ब्रांच ने राजधानी में एक ऐसे रैकेट का पर्दाफाश क‍िया है जोक‍ि व्‍यस्‍तम बाजारों और मॉल आद‍ि में मह‍िलाओं को अपनी ठगी का श‍िकार बनाता था. इस बाबत क्राइम ब्रांच (Crime Branch) की एनआर-2 सेक्‍शन में रैकेट की सूचना म‍िली थी. इस पर गंभीरता से काम करते हुए टीम ने एक मह‍िला अपराधी को धरदबोचने में कामयाबी हास‍िल की है.

अधिक पढ़ें ...

नई द‍िल्‍ली. द‍िल्‍ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच ने राजधानी में एक ऐसे रैकेट का पर्दाफाश क‍िया है जोक‍ि व्‍यस्‍तम बाजारों और मॉल आद‍ि में मह‍िलाओं को अपनी ठगी का श‍िकार बनाता था. इस बाबत क्राइम ब्रांच (Crime Branch) की एनआर-2 सेक्‍शन में रैकेट की सूचना म‍िली थी. इस पर गंभीरता से काम करते हुए टीम ने एक अपराधी को धरदबोचने में कामयाबी हास‍िल की है.

द‍िल्‍ली पुल‍िस की क्राइम ब्रांच-3 के डीसीपी व‍िच‍ित्र वीर के मुताब‍िक क्राइम ब्रांच के NR-II सेक्शन में एक रैकेट की सूचना मिली थी, जो व्यस्त बाजारों और मॉल में लोगों, विशेषकर महिलाओं को, जो अकेली थी, को निशाना बनाता था. जानकारी के अनुसार, गिरोह निशाने पर जीरो हो जाता था और उनका ध्यान भटकाकर उनके पैसे और जेवर लूट लेता था.

इस सूचना के म‍िलने के बाद आगे की कार्रवाई करते हुए एसीपी/एनआर-द्वितीय नरेंद्र सिंह द्वारा इंस्पेक्टर दीपक पांडेय की देखरेख में एक टीम का गठन किया गया. टीम में मह‍िला हैड कांस्‍टेबल सीमा और हैड कांस्‍टेबल अजय को शामिल क‍िया गया. टीम ने आगे के सुराग और शामिल व्यक्तियों की पहचान के लिए सीसीटीवी फुटेज की जांच की. यह पाया गया कि 2 से 4 व्यक्ति, ज्यादातर महिलाएं, पीड़ितों का ध्यान भटकाने और उन्हें धोखा देने के लिए आपस में मिलकर काम करती हैं.

आतंकी संगठन लश्‍कर ए तैयबा और अल बद्र को करता था हवाला के जर‍िए टेरर फंड‍िंग, स्‍पेशल सेल ने दिल्‍ली के मीना बाजार से दबोचा 

गिरोह की कार्यप्रणाली यह थी कि लक्ष्य को शून्य करने के बाद, वे लक्ष्य के करीब पहुंच जाते थे और उनसे संवाद शुरू करने की कोशिश करते थे. पीड़ितों के अनुसार, वे अचानक से हतप्रभ और हाइपोनाइज्ड महसूस करते थे और यह गिरोह इसका इस्तेमाल नकदी और आभूषण सहित उनके कीमती सामान को छीनने के लिए एक अवसर के रूप में करता था.

डीसीपी के अनुसार मह‍िला हैड कांस्‍टेबल सीमा और हैड कांस्‍टेबल अजय ने घटनाओं के सीसीटीवी फुटेज को खंगाला और उस पर गंभीरता से काम क‍िया. फुटेज और मैनुअल इंटेलिजेंस के आधार पर, गिरोह का एक सदस्य, जिसे बाद में रूही निवासी-रघुवीर नगर, दिल्ली के रूप में पहचाना गया, एक सीसीटीवी फुटेज में एक महिला का कीमती सामान ले जाते हुए देखा गया. पहचान की पुष्टि के बाद 18 अगस्‍त को छापेमारी की गई, जिसके परिणामस्वरूप रूही की गिरफ्तारी हुई. मेडिकल जांच के दौरान, डॉक्टर ने यह दर्ज किया कि वे एक ट्रांसजेंडर है. गिरफ्तारी के बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

पुल‍िस पूछताछ के दौरान रूही ने खुलासा किया कि उनका गिरोह मुख्य रूप से पश्चिम विहार, राजा पार्क, जहांगीरपुरी और द्वारका के इलाके में सक्रिय है. अभी तक मिली जानकारी के आधार पर आशंका जताई जा रही है कि यह गिरोह धोखाधड़ी की एक दर्जन से अधिक घटनाओं में संल‍िप्‍त रहा है. इस गिरफ्तारी से अब तक दो मामले सुलझाए जा चुके हैं.

पूछताछ के दौरान उनके द्वारा कुछ नामों का खुलासा भी किया गया है, जिनकी संलिप्तता की पुष्टि की जाएगी. ग‍िरफ्तार आरोपी रूही की उम्र करीब 20 साल है जोक‍ि समाज के कमजोर वित्तीय वर्ग से आती है. आसान तरीके से पैसे कमाने के ल‍िए इस तरह की आपराध‍िक गतिविधियों में संल‍िप्‍त हो गई. उसकी जहांगीरपुरी और मालवीय नगर थाने में दर्ज अलग-अलग मामलों में भी संल‍िप्‍ता पाई गई है.

Tags: Crime News, Delhi Crime, Delhi Crime Branch, Delhi Crime News, Delhi police

अगली ख़बर