कलेक्शन एजेंट से लूट का मामला सुलझाया, 4.89 लाख की नगद राशि के साथ दो लुटरे दबोचे

रोहिणी जिला के स्पेशल स्टाफ ने रॉबरी मामले में दो आरोपियो को गिरफ्तार किया है.

Delhi Crime News:स्पेशल स्टाफ ने एक सनसनीखेज रॉबरी मामले को सुलझाने में कामयाबी हासिल की है. इस मामले में दो आरोपियो को भी गिरफ्तार किया है. इसमें एक आरोपी नाबलिग है. पुलिस ने उनके पास से 4.89 लाख नगद, लूटी गई राशि से खरीदा गया एक आई-फोन और अपराध में प्रयुक्त बाइक बरामद की है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) के रोहिणी जिला (Rohini District) के स्पेशल स्टाफ ने एक सनसनीखेज रॉबरी मामले को सुलझाने में कामयाबी हासिल की है. इस मामले में दो आरोपियो को भी गिरफ्तार किया है. इसमें एक आरोपी नाबलिग है. पुलिस ने उनके पास से 4.89 लाख नगद, लूटी गई राशि से खरीदा गया एक आई-फोन और अपराध में प्रयुक्त बाइक बरामद की है.

    दिल्ली के रोहिणी जिला पुलिस उपायुक्त प्रणव तायल ने बताया कि बुद्ध विहार निवासी शिकायतकर्ता ने बताया कि वह एक कंपनी के लिए कलेक्शन एजेंट के रूप में काम करता है. इसी बीच 06 जुलाई को कराला, रानीखेड़ा, टिकीरी बार्डर और मुंडका क्षेत्र में स्थित विभिन्न वेंडरों से 9.63 लाख रुपये लेकर वह बाइक से अपने घर आ रहा था.

    जब वह प्रताप विहार पार्ट- II, किराड़ी के पास पहुंचा तो उसकी बाइक को 3 हमलावरों ने रोक दिया. वे हॉकी स्टिक और चाकू से लैस थे. इनमें से दो हमलावरों ने उसकी हॉकी स्टिक से पिटाई कर कैश बैग को जबरन लूट कर उसे चाकू से घायल कर दिया.

    इसके बाद पुलिस ने मामले की संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए एसीपी ऑपरेशन ब्रह्मजीत सिंह की देखरेख में इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह के नुतेत्व में एसआई जगदीश, कमल, एएसआई रूपेश, रविंदर, कांस्टेबल अमन, राजेश और अक्षय की टीम ने वेंडरों के साथ काम करने वाले 50 से अधिक कर्मचारियों से, जिनसे शिकायतकर्ता ने नकदी एकत्र की थी, पूछताछ की. इसके अलावा पूरे रूट पर लगे सीसीटीवी कैमरों को चेक किया.

    इस दौरान विभिन्न स्थानों से प्राप्त सीसीटीवी कैमरों (CCTV Camera) के फुटेज से पता चला कि मुंडका में अंतिम विक्रेता से भुगतान लेने के बाद हमलावरों ने शिकायतकर्ता का पीछा किया था. बाइक पर सवार एक आरोपी लाल रंग की पोशाक पहने सीसीटीवी कैमरों में देखा गया.

    मुंडका में वेंडर की दुकान के आसपास व्यक्तियों से लाल रंग की पोशाक वाले लड़के की पहचान पास के क्षेत्र में रहने वाले नाबलिग के रूप में हुई और वह अपने घर से लापता पाया गया.

    इसी बीच 12 जुलाई को नाबलिग और एक अन्य सहयोगी मोनू (25) को सेक्टर -3, रोहिणी, से उस समय पकड़ लिया गया, जब वे लूटी गई नकदी के हिस्से के साथ सेकेंड हैंड कार खरीदने के लिए जा रहे थे.

    पुलिस पूछताछ करने पर उन्होंने उपरोक्त लूट में अपनी संलिप्तता स्वीकार की. उन्होंने अपने तीसरे सहयोगी के नाम का भी खुलासा किया. साथ ही, शेष सह-आरोपियों को पकड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं. पुलिस ने बताया कि मोनू ने 10वीं तक पढ़ाई की है. वह एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखता है. वह अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए अपराध में शामिल हो गया. उसकी कोई पिछली भागीदारी नहीं है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.