• Home
  • »
  • News
  • »
  • crime
  • »
  • Cyber Crime से न‍िपटने को द‍िल्‍ली पुल‍िस ने बनाया ये मेगा प्‍लान, MHA से मंजूरी का इंतजार

Cyber Crime से न‍िपटने को द‍िल्‍ली पुल‍िस ने बनाया ये मेगा प्‍लान, MHA से मंजूरी का इंतजार

 द‍िल्‍ली पुल‍िस की ओर से जल्‍द ही अब साइबर क्राइम के मामलों से न‍िपटने के ल‍िए अलग से साइबर क्राइम थाने खोले जाने की तैयारी की जा रही है. (सांकेत‍िक फोटो)

द‍िल्‍ली पुल‍िस की ओर से जल्‍द ही अब साइबर क्राइम के मामलों से न‍िपटने के ल‍िए अलग से साइबर क्राइम थाने खोले जाने की तैयारी की जा रही है. (सांकेत‍िक फोटो)

Delhi Police Cyber Crime Police Station: द‍िल्‍ली पुल‍िस की ओर से जल्‍द ही अब साइबर क्राइम के मामलों से न‍िपटने के ल‍िए अलग से साइबर क्राइम थाने खोले जाने की तैयारी की जा रही है. इस संबंध में एक प्रस्‍ताव भी तैयार कर केंद्रीय गृह मंत्रालय (MHA) को मंजूरी के ल‍िए भेजा जा चुका है. कोरोना काल के बाद से साइबर क्राइम के मामलों में करीब 67 फीसदी की बढ़ोत्‍तरी हुई है.

  • Share this:

    नई द‍िल्‍ली. द‍िल्‍ली पुलि‍स (Delhi Police) के नए कम‍िश्‍नर के रूप में राकेश अस्‍थाना (Rakesh Asthana) की न‍ियुक्‍त‍ि के बाद से स‍िस्‍टम में बदलाव तेजी से क‍िया जा रहा है. द‍िल्‍ली पुल‍िस के स‍िस्‍टम को और ज्‍यादा मजबूत बनाने की द‍िशा में लगातार अहम फैसले ल‍िए जा रहे हैं. द‍िल्‍ली पुल‍िस के पुल‍िस कंट्रोल रूम (Police Control Room) के स‍िस्‍टम को सीधा ज‍िला पु‍ल‍िस उपायुक्‍त कार्यालयों (DCP Offices) से अटैच करने के बाद अब एक और बड़ा फैसला जल्‍द ही क‍िया जाएगा जोक‍ि सीधे आम जनता के ल‍िए बड़ा फायदा पहुंचाने वाला होगा.

    द‍िल्‍ली पुल‍िस की ओर से जल्‍द ही अब साइबर क्राइम (Cyber Crime) के मामलों से न‍िपटने के ल‍िए अलग से साइबर क्राइम थाने (Cyber Crime Police Station) खोले जाने की तैयारी की जा रही है. इस संबंध में एक प्रस्‍ताव भी तैयार कर केंद्रीय गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) को मंजूरी के ल‍िए भेजा जा चुका है.

    इस बीच देखा जाए तो द‍िल्‍ली में साइबर क्राइम बहुत ही तेजी के साथ बढ़ रहा है. द‍िल्‍ली पुल‍िस के पास साइबर क्राइम से जुड़ी तमाम श‍िकायतें हर रोज र‍िकॉर्ड करवाई जाती हैं. इन सभी मामलों को देखते हुए और तेजी से इनका न‍िपटारा करने के ल‍िए द‍िल्‍ली पुल‍िस मुख्‍यालय की ओर से एक प्रस्‍ताव तैयार क‍िया गया है.

    ये भी पढ़ें: Delhi: ऑनलाइन इन्‍वेस्‍टमेंट के नाम पर दो करोड़ की धोखाधड़ी, 21 लोगों को बनाया ठगी का श‍िकार

    इस प्रस्‍ताव के तहत द‍िल्‍ली पु‍ल‍िस नए साइबर क्राइम थाने खोलेगी. इन थानों में स‍िर्फ साइबर क्राइम से जुड़े मामलों को न‍िपटारा क‍िया जाएगा. वहीं इन थानों में एसएचओ से लेकर सब इंस्‍पेक्‍टर और पूरा स्‍टॉफ साइबर स‍िस्‍टम के बारे में अच्‍छी नॉलेज रखने वाला ट्रेंड स्‍टॉफ तैनात क‍िया जाएगा.

    बताते चलें क‍ि कोरोना काल (Corona era) के बाद से साइबर स्‍टॉक‍िंग, अकाउंट हैकिंग, मॉर्फ‍िंग और ब्‍लैकमेल‍िंग के अलावा अन्‍य दूसरे साइबर मामलों में जबर्दस्‍त बढ़ोत्‍तरी हुई है. अनुमान लगाया गया है क‍ि कोरोना के बाद इस तरह के मामलों में करीब 67 फीसदी की बढ़ोत्‍तरी हुई है. इन मामलों में बढ़ोत्‍तरी होने से साइबर क्राइम सेल के साथ-साथ द‍िल्‍ली पुल‍िस के लोकल थानों पर भी बड़ा दवाब बन गया है.

    इस सभी को देखते हुए द‍िल्‍ली पुल‍िस कम‍िश्‍नर राकेश अस्‍थाना (Rakesh Asthana) के द‍िशा-न‍िर्देश पर साइबर क्राइम थाने खोलने की तैयारी की जा रही है. इस तरह के थाने हर डीसीपी जोन में एक खोले जाने का प्रस्‍ताव है. इस संबंध में प्रस्‍ताव मंजूरी के ल‍िए गृह मंत्रालय को भेजा गया है. वहीं इसकी मंजूरी म‍िलने के बाद इन थानों को खोलने का रास्‍ता साफ हो जाएगा. संभवत: इन थानों को खोलने की शुरूआत नए से की जा सकती है.

    ये भी पढ़ें: दिल्ली में फेक कॉल सेंटर का पर्दाफाश, 9 लड़कियों समेत 15 आरोपी गिरफ्तार, ये 9 राज्य थे टारगेट पर

    जानकारी के मुताब‍िक मौजूदा समय में सभी ज‍िलों में साइबर क्राइम सेल (Cyber Crime Cell) स्टाफ कार्यरत है. यह सेल साइबर से जुड़ी श‍िकायतों व मामलों पर कार्रवाई करता है. वहीं जब नए साइबर क्राइम थानों को अलग से सैटअप तैयार हो जाएगा तो इसका पूरा स्‍टाफ इन थानों में श‍िफ्ट कर द‍िया जाएगा. इस तरह से साइबर क्राइम से जुड़े मामलों का त्‍वर‍ित तरीके से न‍िपटारा करने में बड़ी मदद म‍िल सकेगी.

    साइबर क्राइम को लेकर थानों का सैटअप क‍िस तरह से तैयार क‍िया जाए, इसका ड्राफ्ट तैयार करने की ज‍िम्‍मेदारी द‍िल्‍ली पुल‍िस के स्‍पेशल सीपी (क्राइम) देवेश श्रीवास्‍तव को दी गई है. इस तरह के साइबर थाने लोकल पु‍ल‍िस स्‍टेशन (Local Police Station) से बि‍ल्‍कुल अलग होंगे. बताया जाता है क‍ि इस तरह के थानों में तैनात क‍िए जाने वाले पुल‍िस स्‍टाफ को स्‍पेशल ट्रेन‍िंग देकर ट्रेंड भी क‍िया जा चुका है. करीब 1,200 से ज्‍यादा पुल‍िस पर्सनल को यह स्‍पेशल ट्रेन‍िंग दी जा चुकी है.

    उधर, इस मामले पर द‍िल्‍ली पुल‍िस के प्रवक्‍ता च‍िन्‍मय बिस्‍वाल का कहना है क‍ि अभी इसको लेकर कोई रूप रेखा तैयार नहीं हो पाई है. इस दिशा में अगर कोई आगे की कार्रवाई होती है तो उस संबंध में अवगत कराया जाएगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज