Home /News /crime /

kichha bjp worker murder case update police arrests three but now question over illegal weapons

उत्तराखंड में BJP नेता हत्याकांड में बड़ा खुलासा, दोस्त ने खुन्नस में की थी हत्या, अब अवैध असलहों पर उठे सवाल

यूएसनगर ज़िले की पुलिस हिरासत में हत्या के आरोपी. (इनसेट में) मृतक संदीप कार्की.

यूएसनगर ज़िले की पुलिस हिरासत में हत्या के आरोपी. (इनसेट में) मृतक संदीप कार्की.

Uttarakhand Crime : यूएसनगर ज़िले में बीजेपी के स्थानीय नेता की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के बाद दोस्ती से दुश्मनी तक की कहानी सामने आई है. अवैध हथियारों की बरामदगी के बाद अब खनन के वर्चस्व को लेकर हुए हत्याकांड में कानून व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

चंदन बंगारी
रुद्रपुर. किच्छा के शांतिपुरी में बीजेपी नेता की हत्या मामले के मुख्य आरोपी के साथ ही उसके छोटे भाई और पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर हत्या में इस्तेमाल की गई 32 बोर की अवैध पिस्टल और कारतूस के साथ वारदात में प्रयुक्त कार भी बरामद की. इसके बरक्स उधमसिंहनगर ज़िले में कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े हुए हैं. खनन को लेकर फायरिंग की घटनाओं में 15 दिन के भीतर बाजपुर और शांतिपुरी में दो हत्याएं होने से पुलिस अब एक्शन में आती दिख रही है.

बीजेपी नेता संदीप कार्की की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी को गिरफ्तार करने के साथ ही 5 वाहनों को अवैध खनन की लिप्तता में कुर्क किया गया. पुलिस मुख्य आरोपी और उसके भाई पर गैंगस्टर एक्ट में भी कार्रवाई की तैयारी कर रही है. शांतिपुरी क्षेत्र में अवैध खनन की रोकथाम के लिए अस्थायी पिकेट भी लगाने की कवायद होने जा रही है. गौरतलब यह है कि पुलिस की यह कार्रवाई तब हुई, जब कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा और केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने जल्द गिरफ्तारी के लिए दबाव बनाया.

क्या है मामला और एक्शन का सिलसिला?
शांतिपुरी में 14 मई की सुबह खनन के रास्ते को लेकर बीजेपी मंडल महामंत्री संदीप सिंह कार्की, पंकज जोशी का दूसरे पक्ष के दीपक सिंह मेहता, उसके पिता मोहन सिंह के बीच विवाद हुआ तो मोहन के बड़े बेटे ललित ने तैश में आकर संदीप के सीने में गोली मार दी थी. घटना के बाद ललित, दीपक और मोहन फरार हो गए थे. मृतक के भाई किशन सिंह ने तीनों पर केस दर्ज कराया था. तीनों आरोपियों को अलग अलग जगहों से पुलिस ने पकड़ा.

संदीप से ललि​त की क्या खुन्नस थी?
पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि उनका और संदीप के साथ क्या विवाद था. कुछ दिन पहले उनकी जेसीबी को अवैध खनन में सीज किया गया था, जिसके लिए 2.5 लाख का जुर्माना देने की नौबत थी. उन्हें शक था कि जेसीबी संदीप और पंकज की शिकायत पर पकड़ी गई. इधर, संदीप का कुछ दिनों से खनन में प्रभाव बढ़ रहा था, इससे भी ये लोग खुन्नस खाए हुए थे. जेसीबी को लेकर ही दोनों पक्षों में विवाद हुआ था.

गहरी दोस्ती से गहरी दुश्मनी तक
मृतक संदीप और ललित के बीच गहरी दोस्ती थी. दोनों बचपन में साथ पढ़े थे. दोस्ती इतनी खास थी कि कुछ समय पहले एक मामले में जेल गए ललित की जमानत संदीप ने ली थी. इतना ही नहीं, संदीप अपना क्रेडिट कार्ड भी ललित से ही बनवा रहा था. लेकिन खनन के विवाद को लेकर बात इतनी बढ़ गई कि दोस्त ने ही दोस्त की जान ले ली. इधर, एसएसपी ने बताया कि संदीप की हत्या के बाद फरार ललित को छिपने में मदद करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी.

अब उठा असलहों के लाइसेंस का सवाल
एएसपी मंजूनाथ टीसी का कहना है कि जिले में असलहा रखने वाले सभी खनन कारोबारियों की सूची बनाई जा रही है. किसी वारदात में उनकी संलिप्तता मिली तो असलहे का लाइसेंस कैंसिल करने के साथ उनके वाहनों पर भी एक्शन होगा. बड़ी बात है कि फायरिंग में अवैध असलहों का इस्तेमाल अधिक हो रहा है. एसएसपी का कहना है कि फ़ायरिंग की घटनाओं को देखते हुए जिले में अवैध असलहों को बेच रहे बदमाशों की धरपकड़ का विशेष अभियान भी चलेगा.

Tags: BJP Leader Murder, Crime News, Uttarakhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर